Press "Enter" to skip to content

16 साल का आरोपी बालिग घोषित, 17 साल का मोहम्मद अफरोज नाबालिग, कमाल कर दिया !

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें


गुरुग्राम में एक छोटे बच्चे का स्कुल में मर्डर हुआ था, प्रद्युम्न नाम के छोटे बच्चे का क़त्ल कर दिया गया था, पहले तो एक कंडक्टर को इस मामले में फंसाया गया, पर बाद में उसी स्कुल का 16 साल का एक छात्र गिरफ्तार किया गया 

अब इस 16 साल के छात्र को मिलार्ड ने बालिग घोषित किया है, यानि अब इसपर जो मुकदमा चलेगा तो बालिग की दृष्टि से चलेगा, इस आरोपी को नाबालिग नहीं माना जायेगा, इसके साथ बालिग जैसा क़ानूनी सलूक किया जायेगा, मिलार्ड ने 16 साल के आरोपी को बालिग घोषित किया है 

वहीँ दूसरी तरह दिल्ली में एक निर्भया बलात्कार काण्ड हुआ था, जिसमे मोहम्मद अफ़रोज़ नाम के दरिंदे ने सबसे ज्यादा दरिंदगी मचाई थी, उसी ने निर्भया के गुप्तांगों में लोहे की सलाखें डाली थी, उसका मुख्य हत्यारा मोहम्मद अफरोज ही था 

मिलार्ड ने उस मोहम्मद अफरोज को, जो की 17 साल का था उसे नाबालिग घोषित किया, और उसपर नाबालिग अपराध का केस चला, उसे 3 साल की सजा दी गयी, और जेल नहीं बल्कि हॉस्टल जिसे बाल सुधार गृह भी कहते है, वहां रखा गया, ये जेल नहीं होता, ये एक तरह का हॉस्टल होता है, 3 साल हॉस्टल में रहने के बाद मोहम्मद अफरोज 10000 रुपए और सिलाई मशीन देकर आज़ाद कर दिया गया, और अब वो आज़ाद देश में घूम रहा है 

अब 16 साल का आरोपी तो बालिग हो गया, पर 17 साल का मोहम्मद अफरोज नाबालिग ही रहा, कदाचित मिलार्ड ने यहाँ उसे अल्पसंख्यक कोटे के तहत छूट दे दी, सेकुलरिज्म के नाम पर छूट दे दी, हमारा कानून सबके लिए बराबर है ये अब सिर्फ एक फ़िल्मी डायलॉग से ज्यादा कुछ नहीं रह गया है 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!