Press "Enter" to skip to content

शौर्य दिवस : याद करें उन रामभक्तों को जिन्होंने दे दिया राम मंदिर के लिए अपना बलिदान

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
आज शौर्य दिवस है, और  आज ही के दिन 6 दिसंबर 1992 को हिन्दुओ ने एकजुटता का परिचय देते हुए भारत की धरती पर खड़े एक बड़े कलंक को मिटाया था, जी हां, आज ही के दिन अयोध्या से बाबरी ढाँचे को साफ़ किया था हिन्दू वीरों ने और भारत की धरती पर इस बड़े कलंक को मिटा दिया था 

बता दें की अयोध्या में भव्य राम मंदिर था, 50 हज़ार हिन्दुओ के कत्लेआम के बाद बाबर ने राम मंदिर तुड़वाकर वहां मस्जिद बनवा दिया था, परन्तु हिन्दुओ ने कभी इस स्थान को नहीं छोड़ा, और उसी ज़माने से कारसेवा शुरू कर दी 

हिन्दू 1992 तक कारसेवा करते रहे, कारसेवा मतलब राम  जन्मभूमि पर आकर राम की जी पूजा, राम मंदिर के निर्माण की मांग इत्यादि, और लाखों कारसेवकों ने राम मंदिर के लिए बलिदान दिया, राम मंदिर के लिए कड़ी मेहनत की और आखिरकार 6 दिसंबर 1992  को भारत की धरती पर खड़े इस बड़े कलंक को मिटा दिया गया 

आज का दिन बड़ा ही अद्भुत है, अब हम उन कारसेवकों को नमन कर रहे है, जिन्होंने राम मंदिर के लिए अपना बलिदान दे दिया जिनमे कोठरी बंधू भी शामिल हैं, जिन्हे मुलायम सिंह यादव ने मरवा दिया था, कोठरी बन्दुओं के अलावा भी 15वी सदी से ही लाखों हिन्दुओ ने अपना बलिदान कारसेवा में दिया, उन सभी को आज हम याद कर रहे है, ह्रदय की गहराइयों से नमन कर रहे है 

और भारत की धरती से बाबरी ढाँचे के कलंक को मिटा देने वाले कारसेवकों को हम प्रणाम कर रहे है, की उन्ही के शौर्य के कारण ही भारत की धरती से एक बड़ा कलंक मिटाया गया था, जय जय श्री राम 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!