Press "Enter" to skip to content

हिन्दू जागरूक हो, हिन्दू समाज को तोड़ने के लिए इस्तेमाल की जा रही कौरव नीति : गुरूजी

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें


कोरेगाव-भीमा यहां मैं विगत ढाई-तीन वर्षों में कभी गया नहीं और मेरे विरोध में दंगा भडकाने के आरोप लगाए जा रहे हैं ! जिनकी भेंटवार्ता के कारण दंगा हुआ तथा जिन्होंने मेरे वहां उपस्थित होने की जानकारी दी, उन सभी की जांच होना आवश्यक है ! इस हिन्दू समाज को तोडकर उसे नष्ट करने हेतु ये सभी प्रयास किए जा रहे हैं। इसके पीछे जो सत्ताभ्रष्ट हुए हैं, उनकी ‘कौरवी’बुद्धि है ! श्री शिवप्रतिष्ठान के संस्थापक-अध्यक्ष पू. संभाजी भिडेगुरुजी ने समाचारवाहिनियों के संवाददाताओं से बात करते हुए ऐसा तीखा प्रहार किया। इस अवसर पर पू. गुरुजी ने उनके विरोध में लगाए गए सभी आरोपों का उचित समाचार लेकर सभी आरोपों को मुंहतोड उत्तर दिए !

पू. भिडेगुरुजी ने आगे कहा, 1. छोटे बच्चे के हाथ में कोई वस्तु आ गई, तो वह उसे अपने मुंह में डालता है; क्योंकि उस वस्तु का उपयोग कैसे करना है, यह उसे ज्ञात नहीं होता। अभी जो चल रहा है, वह ऐसा ही है ! आज के लोकतंत्र में राजनेताओं के हाथ में जो भी लगा, उन्होंने उसका दुरुपयोग किया है। उन्होंने पूरे लोकतंत्र को ‘कूडादान’ बना दिया है !

2. विगत ढाई-तीन वर्षों में उस परिसर में मैं कभी गया ही नहीं ! वहांपर स्थित छत्रपति संभाजी महाराज की समाधि हमारी आस्था एवं निष्ठा का केंद्र है ! 3. एक महिलाद्वारा मेरे विरोध में प्रविष्ट किए गए परिवाद में उसने मुझे प्रत्यक्ष रूप से पत्थरबाजी करते हुए देखा है, ऐसा उल्लेख किया है। यह परिवाद दुर्भाग्यपूर्ण है। घटना के समय मैं वहां नहीं था। इसके लिए जहां हिंसाचार हुआ, वहां लगे कैमरों का फूटेज देख सकते हैं !

4. मेरे भाषण के कारण दंगा भडका, ऐसा कहना, यह तो ‘न जन्मे बच्चे के नामकरण की सिद्धता करने’ जैसा है ! 5. ‘मेरे कारण दंगा भडका’, यह आरोप लगाना, तो किसी खगोलशास्त्रज्ञद्वारा ‘मैने अमावस्या की रात 12 बजे पूर्व में सूर्य को देखा है’, ऐसा कहने जैसा है ! 6. देश में अ‍ॅट्रॉसिटी कानून का बडी मात्रा में दुरुपयोग किया जा रहा है ! समाज के किसी एक समूह को लोकतंत्र की हत्या करने का सामर्थ्य देने की बहुत बडी चूक की गई है ! 7. प्रकाश आंबेडकर को हमारे नाम किसने दिए, कौन पत्रकार थे, इन सभी बातों की जडतक जाकर जांच की जानी चाहिए !

8. व्हॉट्सअ‍ॅप पर एक संदेश घूम रहा था, जिसमें ‘इस दिनांक को पू. भिडेगुरुजी का भाषण है और उस भाषण के कारण ही यह सब कुछ हुआ है’, ऐसा लिखा गया था। साईबर क्राईम विभाग ने इसकी जडतक जाकर व्हॉट्सअ‍ॅप पर किसने यह संदेश डाला है, इसकी जांच करनी चाहिए ! 9. बडों में ही विवेक नहीं है, तो वह छोटों में कैसे होगा ? ये राजनेता ऐसे लोग हैं, जिन्हें कभी जूतों के पास भी खडे नहीं रहने देना चाहिए ! पूरे समाज को कलंक है, ऐसा ये प्रकरण है। इस प्रकरण में जिनका भी हाथ है, उनको मृत्युदंड दिया जाना चाहिए !

10 . भगवान श्रीकृष्ण पर भी स्यमंतक मणि चुराने का आरोप कभी लगाया गया था ! अब उसी इतिहास को दोहराया जा रहा है। उसी कारण ही इस प्रकरण में भिडे, एकबोटे, घुगे जैसे नाम लिए जा रहे हैं ! 11. ‘ईश्‍वर मेरे साथ है’, ऐसी अटूट मेरी श्रद्धा है ! आसेतु हिमालय तक हिन्दू समाज बने, इसके लिए श्री शिवप्रतिष्ठान कार्यरत है ! 12. मेरे विरोध में लगाए गए सभी आरोप आधारहीन है और में न्यायालयीन, केंद्रीय अन्वेषण विभाग अथवा अन्य किसी भी जांच यंत्रणाद्वारा की जानेवाली जांच का सामना करने हेतु सिद्ध हूं !

13. किसान आंदोलन, मराठा आरक्षण, लिंगायत समुदायद्वारा अलग धर्म की मांग आदि मांगों के पीछे बहुत बडी राजनीति है। यह सत्ता की भूख है, जो लोकतंत्र को न माननेवाली है और इसमें सर्वदलीय राजनेता अंतर्भूत है ! 14. जैसे अंत में पांडवों का विजय हुआ, वैसा ही अब होनेवाला है !

पू. भिडेगुरुजीद्वारा प्रकाशित विज्ञप्ति में कहा गया है कि, 1. ‘पुण्यश्‍लोक छत्रपति शिवाजी महाराज’ तथा ‘धर्मवीर संभाजी महाराज’ इन बीजमंत्रोंपर आधारित सभी हिन्दू समाज को आसेतु हिमालय एकरूप, एकमय और एकचित्त कर हर हिन्दू ने भारतमाता का ऋण चुकाने के परमकर्तव्य का निर्वहन करना चाहिए। ऐसी राष्ट्रजागृति कर हिन्दू समाज को एकहृदय बनाने का काम करनेवाले लोग हैं, हम !

2. प्रकाश आंबेडकरद्वारा महाराष्ट्र बंद के आवाहन के अनुसार उनके अनुयायियों ने गांव-गांव में नागरिकों के वाहन, घर, दुकानें और सार्वजनिक संपत्ति का विध्वंस किया। साथ ही प्रकाश आंबेडकर ने ‘इन सभी घटनाओं के लिए मैं (पू. भिडेगुरुजी) उत्तरदायी हूं ! अतः इस प्रकरण में मुझे बंदी बनाकर याकूब मेमन की भांति दंडित करने की मांग की है; परंतु कुल मिलाकर यह एक षडयंत्र है; इसलिए शासन इसकी जडतक जा कर व्यापक जांच करे 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!