Press "Enter" to skip to content

सीधी बात : सेटिंग करके लुटेरे लूट मचाते रहे राहुल राज में, मोदी राज में भागना पड़ा

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें

मोदी 2014 में देश के प्रधानमंत्री बने थे, 2014 में बीजेपी की सरकार बनी थी लेकिन राहुल गाँधी और कांग्रेसी विजय माल्या और नीरव मोदी के घोटाले का आरोप प्रधानमंत्री मोदी पर लगा रहे हैं, जबकि दोनों घोटाले कांग्रेस सरकार में हुए थे.

दोनों घोटालों का आरोप मोदी सरकार पर लगाकर राहुल गाँधी यह भी साबित कर रहे हैं कांग्रेस के 10 साल के शासन में जितने भी घोटाले हुए, जितनी भी लूट हुई, सबकी जिम्मेदार कांग्रेस है, कांग्रेस की ही मदद से विजय माल्या ने 2004-2012 तक 9000 करोड़ रुपये लूट लिए और कांग्रेस की ही मदद से नीरव मोदी ने देश के 12000 करोड़ रुपये लूट लिए लेकिन दोनों घोटालों की जांच मोदी सरकार के समय में हुई और लुटेरों को देश छोड़कर भागना पड़ा.

विजय माल्या को कांग्रेस सरकार ने 9000 करोड़ रुपये का लोन दिया और वह पैसे खाकर भाग गया, उसके बाद 2011 में कांग्रेस सरकार ने नीरव मोदी को लोन देना शुरू किया और 2014 तक 12000 करोड़ रुपये लूट गया.

आज नीरव मोदी के 12000 करोड़ रुपये के PNB घोटाले ने पूरे देश में हलचल मचा रखी है, कांग्रेस ने इसका आरोप नरेन्द्र मोदी पर लगाया है जबकि उसनें 2011 में कांग्रेस यूपीए सरकार में लूटना शुरू किया था. राहुल गाँधी ने ट्वीट किया है जिसमें नरेन्द्र मोदी सरकार पर घोटाले का आरोप लगाया है. जबकि लूट कांग्रेस सरकार में हुई और पकड़ा मोदी सरकार ने.

आपको बता दें की नीरव मोदी, ललित मोदी, विजय माल्या जैसे भगोड़े लूट मचाते रहे कॉग्रेस के राज में, क्यूंकि सरकार से वह सेटिंग कर लिया करते थे, कमीशन खिलाकर सेटिंग की जाती थी, पर मोदी सरकार से ये लुटेरे सेटिंग नहीं कर पाते इसी कारण इनको भागना पड़ता है, अन्यथा कांग्रेस के राज में लूट करने वाले ये लुटेरे कांग्रेस के राज में कभी नहीं भागे, सिर्फ ये लुटेरे ही नहीं बल्कि ज़ाकिर नाइक जैसा आतंकवादी भी कांग्रेस के राज में गतिविधियां चलाता रहा, पर भागा मोदी राज में क्यूंकि उसकी जिहादी गतिविधियों को मोदी सरकार ने करने की छूट नहीं दी ! 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!