Press "Enter" to skip to content

राहुल गाँधी से कॉकटेल पार्टी में मिलते ही मिल जाता था नीरव मोदी को लोन : शहज़ाद पूनावाला

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें



आपको लूट का पूरा फार्मूला हम समझाने जा रहे है, जिसे आप ध्यान से पढ़ लीजिये, आपको पता चल जायेगा, की बैंको का पैसा 2014 से पहले किस प्रकार लुटा जाता था, और जो भी शख्स विरोध करता था उसे हटा दिया जाता था, किस प्रकार नेता अय्याशी करते थे, कमीशन खाते थे 

इलाहबाद बैंक के तत्कालीन डायरेक्टर (2013) दिनेश दुबे ने आज कई खुलासे किये, उन्होंने बताया की किस प्रकार नीरव मोदी ने इलाहबाद बैंक में लोन के लिए अप्लाई किया था पर मैंने लोन से इंकार कर दिया था और आपत्ति दर्ज कराइ थी, तो मुझे हटा दिया गया था, और सब चिदंबरम जो की तत्कालीन वित्तमंत्री था उसके इशारे पर किया गया 

अब हम आपको पूरा फार्मूला समझाने जा रहे है, 2 ट्वीट दिखाएंगे हम आपको और फिर आपको अच्छे से समझ में आ जायेगा, की इस देश में क्या चल रहा था, दोनों ही ट्वीट्स पर ध्यान दीजिये, आपको बहुत कुछ सरल भाषा में समझ में भी आ जायेगा 
13 सितम्बर 2013 को दिल्ली के आलीशान होटल “एम्पेरिअल होटल” में नीरव मोदी ने एक अय्याशी पार्टी रखी थी, और खास लोगो को निमंत्रित किया  था, सफ़ेद शर्ट और नीली जीन्स पहनकर राहुल गाँधी इस पार्टी में शामिल हुए थे, और शहज़ाद पूनावाला के ट्वीट को आप पढ़ सकते है ये एक “कॉकटेल” पार्टी थी, शहज़ाद ने साफ़ शब्दों में नहीं कहा पर हम आपको बता देते है, ये असल में एक अय्याशी पार्टी थी, और राहुल गाँधी को नीरव मोदी ने ऐयाशी करने के लिए निमंत्रित किया था, ये दिन था 13 सितम्बर 2013, अब जरा एक दूसरा ट्वीट देखिये, जिसमे अन्य जानकारियां है


तो दिनेश दुबे जो की इलाहबाद बैंक के डायरेक्टर थे, वो नीरव मोदी का लोन सितम्बर से पहले कैंसिल कर देते है, फिर 13 सितम्बर को नीरव मोदी मिलता है राहुल गाँधी से, इम्पीरियल होटल में, फिर 14 सितम्बर 2013 को, यानि अगले ही दिन इलाहबाद बैंक से 1500 करोड़ का लोन नीरव मोदी को पास कर दिया जाता है, विशेष सेवा जो नीरव मोदी ने राहुल गाँधी की करी 

उसके बाद बैंक के डायरेक्टर दिनेश दुबे इसका फिर विरोध करने लगते है, RBI और वित्त मंत्रालय के अधिकारीयों को चिट्ठी लिखने लगते है, तो तत्कालीन वित्तमंत्री पि चिदंबरम दिनेश दुबे को एक चिट्ठी लिखते है, और उन्हें बर्खास्त कर देते है, की भैया तुम बड़ा कानून बता रहे हो, अब बर्खास्त हो जाओ आराम करो ! 

ये था बैंको से लूट का सारा फार्मूला, माल्या भी विशेष सेवाएं देता था कांग्रेस नेताओं को, यही फॉर्मूला था, विशेष सेवा करो कोंग्रेसी नेताओं, मंत्रियों, राहुल गाँधी की और लोन पर लोन पाओ, दिनेश दुबे जैसे जो लोग विरोध करे उन्हें ठिकाने लगाओ! 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!