Press "Enter" to skip to content

सेक्युलर से कहीं भली है भगवा सरकार : संतोष-अंकित के परिजनों को तो कोई मुआवजा भी नहीं दिया गया

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें


एक के बाद एक घटना होती जाती है, और हमारी समस्या वैसे तो कई सारी है पर एक समस्या ये भी है की हम सब भूल जाते है, और अगली घटना का इंतज़ार करते रहते है, अभी तीन घटनाये हुई, एक तो दिल्ली में अंकित सक्सेना का क़त्ल, वहीँ बंगलुरु में संतोष का क़त्ल और कासगंज में चन्दन गुप्ता का क़त्ल 

अब जरा इन तीन घटनाओं और तीन जगह हिन्दुओ के कत्लेआम के बाद क्या हुआ उसपर नजर डालिये, सरकारों ने क्या क्या किया, ध्यान दीजिये, ये चीज ध्यान देने लायक है, दिल्ली में तो AAP की सेक्युलर केजरीवाल की सरकार है, वहीँ कर्णाटक में सेक्युलर कांग्रेस की सरकार है, वहीँ उत्तर प्रदेश में भगवा सरकार है, अब गौर कीजिये 

मरने वाला:-अंकित, मारने वाला:-मुस्लिम लड़की के परिजन, सरकार:-आम आदमी पार्टी (केजरीवाल), स्थान:-दिल्ली, कार्यवाही:-आपसी रंजिश के वजह से लड़के और लड़की के परिजनों में हाथापाई हुई जिसमें अंकित की मौत हो गयी। न अंकित को कोई मुआवजा, और फिर से कोई अंकित न मारा जाये, न उसपर कोई कार्यवाही 

अब दूसरी घटना – मरने वाला :- संतोष, मारने वाला :- वसीम, सरकार :- कांग्रेस (सिद्धारमैया), स्थान:- बंगलुरु, कर्नाटक, कार्यवाही :- वसीम तो मारना ही नही चाहता था बस स्क्रूड्राइवर से गलती से चोट लगी जिससे संतोष मर गया। (गृह मंत्री कर्नाटक का बयान, मुआवजा कुछ नहीं और फिर से कोई संतोष न मारा जाये, न उसपर कोई कार्यवाही 

अब तीसरी घटना पर नजर डालिये – मरने वाला :- चंदन गुप्ता , मारने वाला :- सलीम, सरकार :- योगी राज, भाजपा, स्थान:-उत्तर प्रदेश, कार्यवाही :- अभियुक्तों के घर के दरवाजे से ले कर पिछवाड़े तक तोड़ दिए गए, 150 गिरफ़्तार, रासुका, कुर्की सहित सख्त धाराओं में मुकदमा सहित कठोर कार्यवाही। अंकित के परिजनों को 20 लाख रुपए का मुआवजा भी 

हिन्दू खुद तय करें क्या चाहिए और किसे वोट देना चाहिए। क्योंकि आपका एक वोट तय करेगा कि आपकी आनेवाली पीढ़ी को कलमा पढ़नी है या फिर आरती करनी है, और हां इन तीन घटनाओ से एक चीज सीखने लायक है – इन सेकुलरों से कहीं बेहतर है भगवा सरकार 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!