Press "Enter" to skip to content

नार्थ ईस्ट में हिन्दुओ का सफाया कर दिया गया, कोई नहीं उठाता ये मुद्दा : ट्रू इंडोलॉजी

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें


नार्थ ईस्ट यानि पूर्वोत्तर भारत जिसमे कई छोटे छोटे राज्य है, और अधिकतर राज्यों में अब ईसाई बहुसंख्यक है, पर ये ईसाई कोई यूरोप से आकर थोड़ी बस गए है, ये सभी धर्मांतरित है, हिन्दू ही थे इनके पूर्वज जिनका जबरन धर्मपरिवर्तन किया गया, और कोंग्रस का इसमें सबसे बड़ा सहयोग रहा 

पूर्वोत्तर के राज्यों में हिन्दू ही बहुल थे, पर आज बहुत से राज्य जिनमे नागालैंड, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम और अब तो अरुणांचल में भी हिन्दू अल्पसंख्यक है, आज सोशल मीडिया विचारक ट्रू इंडोलॉजी ने एक महत्व्यपूर्ण बात कही, जिसे हम दैनिक भारत के पाठकों के समक्ष भी रखना चाहते है, ट्रू इंडोलॉजी की बातों में वजन है इसी कारण हम इसे आपके  सामने रख रहे है 

ट्रू इंडोलॉजी ने साधारण आंकड़े ही रखे, पर देश का ध्यान इनकी तरफ नहीं जाता, ट्रू इंडोलॉजी ने बताया की 1961 तक अरुणांचल प्रदेश में ईसाईयों की जनसँख्या मात्र 0.51% थी जो की 2011 में 30% से भी ज्यादा हो गयी, और नागालैंड में 1941 तक ईसाईयों की संख्या 00% थी, जो की 2011 के आंकड़ों के अनुसार 90% हो गयी, इतने ईसाई कहाँ से आ गए 

और बड़ी चीज ये की जो हिन्दू यहाँ बहुसंख्यक थे वो कहाँ गए ? हिन्दुओ को जमीन खा गई या आसमान निकल गया, और हिन्दू गायब कर दिए गए उसका जिम्मेदार कौन है, देश में कोई भी हिन्दुओ को गायब कर देने का मुद्दा नहीं उठाता, हिन्दुओ का जबरन धर्मपरिवर्तन किया गया इसका मुद्दा भी कोई नहीं उठाता, जबकि ये देश हिन्दू बहुल है, पर हिन्दुओ के खात्मे पर कोई बात करने को भी तैयार नहीं है, कौन खा गया बहुसंख्यक हिन्दुओ को, ये सवाल पूछा ही जाना चाहिए ! 

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!