Press "Enter" to skip to content

यूपी के साधारण लडको को ये वाला समाजवाद क्यों नहीं सिखा रहे अखिलेश, ताकि सब खोल सके होटल

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
अखिलेश यादव का होटल
अखिलेश यादव का होटल

इलाहबाद हाई कोर्ट ने लखनऊ बेंच ने लखनऊ के हज़रतगंज में अखिलेश यादव के बन रहे 5 सितारा होटल पर रोक लगा दी, जिस याचिकाकर्ता ने याचिका लगाई थी अब उसे धमकियाँ दी जा रही है

अखिलेश यादव लखनऊ के महंगे इलाके में 5 सितारा होटल खोल रहे है, इसमें उनके साथ डिंपल यादव भी शामिल है, अखिलेश यादव कहने को एक साधारण नेता है, समाजवादी है


पर ये समझना मुश्किल है की किस पैसे से अखिलेश यादव 1000 करोड़ का होटल खोल रहे है, अगर अखिलेश यादव के काम धंधे की बात करे तो ये एक नेता है, ये कोई व्यापार भी नहीं करते

5 साल उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे, और जब मुख्यमंत्री की कुर्सी चली गयी तो लखनऊ में होटल खोलने का काम शुरू किया, देखा जाये तो उत्तर प्रदेश राज्य के मुख्यमंत्री की 1 महीने की तनख्वाह है 1 लाख भारतीय रुपए

यानि 5 साल में हुए 60 महीने, तो इस हिसाब से 1 अखिलेश यादव की कुल कमाई 60 लाख रुपए हुई, और MLC है तो उसकी सैलरी भी मिलती है, कुल मिलाकर भी अखिलेश यादव की कुल कमाई खींचकर भी 1 करोड़ से ज्यादा की नहीं है

अब ऐसा शख्स 1000 करोड़ का होटल कैसे खोल रहा है, किसके पैसे से खोल रहा है, कहाँ से धन लाया है ? देखा जाये तो हमारे देश के इनकम टैक्स डिपार्टमेंट में भी कहीं न कहीं कमी तो है ही

क्यूंकि नेताओं के पास धन कहाँ से आता है ये किसी को पता ही नहीं चलता, और सरकार चाहे किसी की भी हो इस मामले में ढीली तो है ही, वैसे अखिलेश यादव मुख्यतः यादव जाति की राजनीती करते है

यादव जाती एक OBC जाति है, अधिकतर यादव युवा बेरोजगार है, अगर उत्तर प्रदेश के सारे युवाओं की बात हटा भी दी जाए तो भी अखिलेश यादव को कम से कम यादव जाति के युवकों को तो ये समाजवाद सिखाना ही चाहिए, जिसके जरिये 1 लाख की सैलरी वाला इन्सान 1000 करोड़ का होटल खोल सकता हो

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!