Press "Enter" to skip to content

लोकसभा चुनाव 2019 : एक तरफ भारत, हिन्दू और सेना विरोधी और एक तरफ नरेंद्र मोदी

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Modi vs All
Modi vs All

Modi vs All : 2014 का लोकसभा चुनाव कई लोगों के बीच हुआ था, मोदी ने प्रचंड जीत हांसिल करते हुए दशको बाद पूर्ण बहुमत प्राप्त किया, उसके बाद से देश के तमाम परिवारवादी, जातिवादी और सेक्युलर दल लगभग साफ़ होते गए

अब संकट अस्तित्व पर आ गया तो सभी दल एकजुट है, और अगला लोकसभा चुनाव साल 2019 में है, और साल 2019 का जो लोकसभा चुनाव है वो किसके बीच होने जा रहा है ये अब स्पष्ट है


एक तरह है महागठबंधन, और एक तरफ है नरेंद्र मोदी – और किस खेमे में कौन कौन से लोग है उसपर आपको जरुर नजर डालना चाहिए, 2 ही साइड है, एक मोदी और दुसरे मोदी विरोधी

loading...

 

अब मोदी के खिलाफ कौन कौन साथ है इसपर नजर डालिए  : Modi vs All

  • आज़ादी गैंग, टुकड़े टुकड़े गैंग – ये वो गैंग है जो देश को आये दिन सिर्फ गालियाँ देता है, ये भारत तेरे टुकड़े होंगे इंशाल्लाह इंशाल्लाह के नारे लगाता है
  • मीलार्ड गैंग – इसके बारे में कम ही लोग जानते है, पर मीलार्ड गैंग सक्रीय है, क्यूंकि मोदी के रहते मीलार्ड लोग भी कमाई करने में असहज है, मन पसंद केस इनको नहीं मिलता तो ये प्रेस कांफ्रेंस करने लग जाते है, ये गैंग कई फैसलों को लटकाए हुए है ताकि मोदी को उसका लाभ न मिले, जैसे रोहिंग्यों का मामला, राम मंदिर का मामला और अब 35A को भी अगले साल तक टाल दिया
  • कांग्रेस, सपा, बसपा, TMC, RJD, TRS, TDP, लेफ्ट, और बाकि अन्य दल – इन सबमे 1 चीज कॉमन है – सबकी सब हिन्दू विरोधी है, घोर तुष्टिकरण इनका मुख्य काम है, ये जहाँ पर भी सत्ता में है वहां हिन्दुओ का क्या हाल है रोज इसके कई उदाहरण सामने आते है
  • नक्सली – ये मोदी से बहुत ज्यादा परेशान है, यहाँ तक की इनके अर्बन साथी जो शहरों में रहते है जिनको अर्बन नक्सली कहा जाता है वो मोदी की हत्या का प्रयास भी कर रहे है
  • भ्रष्टाचारी – मोदी सरकार के आने के बाद से 3 लाख फर्जी कंपनियों को बंद किया गया है, आधार कार्ड लिंक करने से 90 हज़ार करोड़ रुपए बचाए गए है जो की फर्जी लोगों के नाम पर सरकारी खजाने से साफ़ हो जाया करता था, तमाम ठेकेदार मोदी से परेशान है
  • अलगाववादी – मनमोहन सरकार के दौर में यासीन मलिक सीधे PM हाउस में मेहमान बना करता था, आज हुर्रियत वालो की ये स्तिथि है की आसिया अंद्राबी जैसे जेल में बंद है, और बाकियों को सरकार आये दिन या तो जेल में डालती है या कोई भाव नहीं दिया जाता, मोदी सरकार में इनको कोई नहीं पूछता
  • रोहिंग्या-बंगलादेशी घुसबैठीये – ये मोदी सरकार से बेहद परेशान है, क्यूंकि मोदी के रहते इनके साथियों को भारत में घुसने में समस्या होती है, कांग्रेस के शासन में तो आसानी से घुसते थे, ऊपर से मोदी की सरकार ने इनको निकालने की कार्यवाही शुरू कर दी है, अब मीलार्ड और अन्य लोग इनको बचाने की कोशिश करते है, पर अगर मोदी शासन में बने रहे तो मीलार्ड फिलार्ड इनको ज्यादा दिनों तक बचा कर नहीं रख सकेंगे, अभी भी इनके पास वोटर कार्ड है ही, मोदी के खिलाफ प्रचंड रूप से एकजुट होकर ये वोट करेंगे

इसके अलावा मीडिया के दलाल पत्रकार, मीडिया हाउसेस, लेखक, कलाकार, पाकिस्तान चीन ये सब मोदी से परेशान है, पाकिस्तान की स्तिथि तो ये है की वहां के तमाम बुद्धिजीवी भारत के गद्दारों के साथ मिलकर मोदी को कैसे हटाया जाये कैसे गिराया जाये इसी में लगे रहते है, चीन भी मोदी से बेहद परेशान है, ये सब मोदी के खिलाफ है

loading...

 

Modi vs All : तो अगले लोकसभा चुनाव में ये तमाम गुट VS मोदी, ये ही 2 पक्ष है, मोदी और बाकि सब, मोदी VS ALL, अब भारतीयों को चुनना है की उन्हें किसके साथ जाना है, मोदी रहे तो आने वाले दिनों में 370, 35A, बांग्लादेशियों पर कार्यवाही, राम मंदिर इत्यादि पर फैसले होने की उम्मीद होगी, मोदी नहीं रहे तो ये सब तो भूल जाइये, बाकि और क्या क्या अत्याचार होंगे उसकी उम्मीद अधिक हो जाएगी, फैसला अभी इस देश के लोगों को करना है

अभी भी हिन्दू बहुसंख्यक है, इसलिए वो चाहे तो इस देश के साथ कुछ भी आकर सकते है, अगर मोदी गए और अगले 5 साल दूसरा कोई आ गया तो हिन्दुओ से तो गज़ब का बदला लिया जाना तय है !

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!