Press "Enter" to skip to content

मस्जिद डूबी तो मंदिर करवा रहा नमाज़, वहीँ मस्जिद के पास से गुजरे कांवड़िया तो कर दिया 150 को घायल

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
ONE WAY SECULARISM IN INDIA
ONE WAY SECULARISM IN INDIA

ONE WAY SECULARISM IN INDIA : जी हाँ, भारत के अन्दर 1 तरफ से ही सेकुलरिज्म चल रहा है, सेकुलरिज्म की ताली 1 ही हाथ से बजाई जा रही है, इस सेकुलरिज्म का सारा बोझ हिन्दुओं ने अपने कंधे पर ले रखा है

भारत में हिन्दू सेकुलरिज्म निभाने में लगे है और मुस्लिम अपने मजहब को निभाने में लगे है, केरल के अन्दर भाईचारा ऐसा की वहां बाढ़ में मस्जिद डूब गई तो मंदिर ने अपने ताले नमाज़ के लिए खोल दिए


जबकि राजस्थान में ऐसा भाईचारा की मस्जिद के पास से कांवड़िये  गुजर गए तो लाठी डंडो पत्थरों से मजहबी नारे लगाते हुए हमला कर दिया गया और 150 से ज्यादा कांवड़ियों को मारकर घायल कर दिया, और खबर तो 1 के मरने की भी है

loading...

 

पहले देखिये केरल में हिन्दू कैसे भाईचारा निभा रहे है : ईरावतूर में पुरुपिलिकव रक्तेश्वरी मंदिर के अधिकारियों ने मंदिर से जुड़े एक हॉल को नमाज के लिए खोल दिया, क्योंकि पास के कोचुकाडव महल मस्जिद में पानी भरा हुआ था

मंदिर के अन्दर 300 से ज्यादा मुस्लिमो ने नमाज़ पढ़ी, और नमाज़ कुछ ऐसा होता है की – हमारे अल्लाह के अलावा कोई नहीं, हमारे मोहम्मद के अलावा कोई नहीं, सिर्फ अल्लाह और मोहम्मद बाकि कोई नहीं, सिर्फ अल्लाह और मोहम्मद बाकि सब काफिर, ये है नमाज़ का एक स्ट्रक्चर, जो मंदिर के अन्दर पढ़ी गयी

loading...

 

अब आप राजस्थान के टोंक में भाईचारा को द्केहिये : यहाँ मस्जिद के पास से हिन्दू तीर्थ यात्री गुजर गए तो उनके साथ क्या किया गया, विडियो 1 हिस्से का है, जो किसी तरह बना लिया गया, पर फिर भी आपको काफी कुछ दिखाई देगा, किस तरह मस्जिद वालो ने भाईचारा निभाया, देखें

 


और आंकड़ा सिर्फ 50 का नहीं रहा, 150 का हो चूका है, जो घायल है, और पुष्ट नहीं पर खबर है की 1 हिन्दू तीर्थ यात्री मर भी चूका है, जिसपर हमला किया गया था

ONE WAY SECULARISM IN INDIA :  तो आपने भाईचारे के रूप को देख ही लिया, ये ऐसा ही है जैसे 1 वे ट्रैफिक, 1 हाथ से ताली बजाई जा रही है, एक समाज सेकुलरिज्म निभाने में लगा है, और दूसरा समाज अपने मजहब को निभाने में, और भाईचारा किस तरह का चल रहा है ये आप देख सकते है, और अपने विवेक से आप मंथन चिंतन कर सकते है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!