Press "Enter" to skip to content

मोदी बोहरा मुसलमानों के पास क्यों गए, हिन्दुओ को ये समझने की है जरुरत, पहले समझे फिर मोदी पर बन्दुक ताने

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Modi Bohra Muslim Love
Modi Bohra Muslim Love

Modi Bohra Muslim Love : यह बोहरा मुस्लिम समाज का कार्यक्रम है ,,अब खेल को समझिए ,, आप हिन्दू हो कर भी मोदी के प्रति उतने कट्टर नहीं जितना यह मुस्लिम समाज मोदी के प्रति कट्टर है ,,, आप कुछ भी बोल लो, यह समाज केवल मोदी को वोट करेगा ,,, क्यों

यह समाज जानता है ,, की हिन्दू अगर कमजोर हुआ तो सबसे पहले किसी की गर्दन कलम होगी तो इनकी ही ,,,अब मीडिया का और नेताओं का और मीडिया दोगला पन भी देख लो ,,,, भोपाल 2 साल पहले एक कांग्रेसी नेता को भनक लगी कि मुसलमानों पर हमला हुआ है ,, सो कांग्रेसी को लगा पक्का यह हमला हिन्दुओं ने किया होगा ,,,


बस कांग्रेसियों ने दौड़ लगा दी ,,साथ में मीडिया को भी सूचित कर दिया ,,,मीडिया ने भी ब्रेकिंग न्यूज चला दी ,,, पर जैसे ही वहां कांग्रेसी पहुंचे तो देखा कि हमला सुन्नी समुदाय ने शिया के ऊपर किया है ,,,, सो उल्टे पैर भाग लिए वहां से ,,,

Modi Bohra Muslim Love : मोदी के जाने का एक कारण यह भी है ,, जिस तरह शांति दूत दलितों से भाईचारे का दिखावा करते है ,,, और अपना बताते है यह भी शांति दूत की दुखती रग है यहां यह पे पे होने लगते है ,,

loading...

भाई तुम डाल डाल तो हम पात पात ,,खेल मजेदार है ,,, सुबह से शांतिदूतों में हड़कंप मचा है ,, मोदी ने टोपी पहन ली मोदी ने इस्लाम ग्रहण कर लिया ,, अब भाई खिसियानी बिल्ली खंबा नोचे वाली कहावत है ,,, यही फिट बैठती है इनके ऊपर

पहले जान तो लो कि बोहरा,,मुस्लिम है कौन,,। एक फिरका बोहरा इस्लामिक,जिनमे,,शिया और सुन्नी दोनों होते हैं,,,जो पढ़ें लिखे और व्यसायी होते है,यह दारा शिकोह जैसा उदारवादी इस्लाम मानने वाले है,,,इनकी ज़ायरीन,, बुरखे पहनती है लेकिन काले रंग के नही,सफेद,नीले,गुलाबी रंग के साथ ही,,चेहरे से खुले होते हैं,,यह अपने मत के अनुशाषित धारणा का पालन करतें हैं,,और नफरत नही फैलाते,,हज़रात गोल खूबसूरत सी टोपियां जिनमे,सुनहली इम्ब्राडरी होती है,,,पहनते है,,दाढ़ी इनमें भी रखना अनिवार्य है,,लेकिन यह खुलेआम समाज में नफरत नही फैलाते,,,हैं,

दाउदी वोहरा समुदाय की अपनी एक अलग पहचान है क्योकि ये शांतिपूर्ण रहनेवाला व्यपारी समुदाय है, उनके धर्मगुरु बावा साहेब कहते थे की जिस मुल्क में रहो उस जमीन से वफ़ादार रहो, मोदीजी जब गुजरात में मुख्यमंत्री थे तब जब भी वोहरा समुदाय के सर्वोच्च घर्मगुरु गुजरात आते थे तब उनको स्टेट गेस्ट का दर्जा देते थे, मोदीजी ने जब टाइम स्केवर न्यूयॉर्क में स्पीच दिया तब वोहरा समुदाय की विशेष हाजरी थी।

loading...

Modi Bohra Muslim Love : दाऊदी शिया बोहरा समुदाय किस तरह अपनी पहचान आम मुस्लिम समाज से अलग करता है इसे जरा समझें –

1) इस समाज मे भिखारी होते ही नहीं और अधिकांश इनकम टैक्स पेयर्स हैं !

2) दाऊदी शिया बोहरा समाज के लोगों पर पिछले 20 वर्ष मे कोई आपराधिक FIR दर्ज नहीं है और 20 वर्ष से पुराने आंकड़े सरकार नष्ट कर देती है वरना शायद ही कोई एक भी दाऊदी शिया बोहरा अपराधी पाया जाता !

3) सर्वाधिक सफल व्यापारी हैं और नौकरी नहीं करते !

4 ) निकाह में दहेज़ लेना हराम मानते हैं , निकाह हमेशा सामुहिक विवाह सम्मेलन में होता ताकी फिजुल खर्चे ना हो ! चार विवाह के कंसेप्ट को नकारते हैं !

5 ) हर शिया दाउदी मस्जिद मे यह तय है की हर समाज के व्यक्ति का खाना मस्जिद से ही जाएगा जिसका चार्ज बडा मामुली है 20 रू प्रती टिफीन ! जिसमें 6 रोटीयां , दो सब्जी , एवं दाल चांवल होते है ! हफ्ते मे दो बार मांसाहार की भी व्यवस्था होती है । यानी भोजन का अधिकार ! हमारे पडौसी कहते है वो दो टीफीन लेते है जिसमें पत्नी के साथ बेटी भी खा लेती है

6) व्यापार मे सहायता – पुरा समाज नये बच्चों को पसंदानुसार व्यवसाय मे अपने ही समाज के व्यक्तियो से ट्रेनीग करा कर नया व्यापार शुरू कराते है !

7) नया व्यापार शुरू करने पर बिना ब्याज मस्जिद से लोन मिलता है

8 )सारे सामाजिक विवादो जैसे संपत्ति आदी का निराकरण मस्जिद मे ही हो जाता है !

9) क्षिक्षा पर जोर और मस्जिद से फीस मे मदद !

10 ) मुहर्रम के महीने में निशुल्क खाना मस्जिद से हर घर जाता है और कोई भी एक मोमिन इसका खर्चे वहन करता है ! आने वाले 20 सालों की बुकिंग आलरेडी है !

11 ) तीन तलाक़, हलाला जैसी कुप्रथाओं की कोई ‌ ‌जगह नहीं !

loading...

सोचिए की हर कौम इन समान होती तो आज हमारे देश से पुलिस जैसी संस्था की जरूरत ही नहीं होती, दाऊदी शिया बोहरा समुदाय की मान्यताएं सुन्नी इस्लाम से बेहद अलग है इसलिए वहाबी विचारधारा वाले संगठन इन्हें मुसलमान ही नहीं मानते,

दाऊदी शिया बोहरा समुदाय भी ख़ुद को मोमिन कहलवाना पसंद करते हैं ना की मुसलमान !

मोदीजी के लिए ऐसा मान सम्मान, प्यार, स्नेह और अपनत्व को देखना एक सुखद अहसास है। ये वो ही बोहरा समुदाय हैं जिसने 2014 के चुनावों में मोदीजी का खुलकर समर्थन किया था….…………..

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!