Press "Enter" to skip to content

जिस शख्स पर लगना चाहिए महावियोग वो होगा हमारा CJI, भारत का अब इश्वर ही मालिक है

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Ranjan Gogoi Father Keshab Chandra Gogoi
Ranjan Gogoi Father Keshab Chandra Gogoi

Ranjan Gogoi Father Keshab Chandra Gogoi : ये कोलोगियम सिस्टम का ही कमाल है, और ये सिस्टम भी कांग्रेस ने ही इस देश में बनाया था, कांग्रेस बड़ी चालक थी, वो जानती थी की ऐसा भी हो सकता है की उसे देश की सत्ता से बाहर जाना पड़े

और ऐसे हालात में अदालतों पर कण्ट्रोल बना रहे इसी मकसद से कांग्रेस ने ये सिस्टम बनाया, इस सिस्टम के आधार पर वर्तमान CJI दीपक मिश्र ने सीनियर होने के नाते रंजन गोगोई का नाम CJI के लिए आगे बढ़ा दिया है, अब 3 अक्तूबर से देश के नए CJI होंगे रंजन गोगोई


रंजन गोगोई के बारे में कुछ बातें देश को जानने का हक़ है, क्यूंकि ये हमारे देश की अहम् संस्था के टॉप पर बैठने वाले है :

loading...

 

  • Ranjan Gogoi Father Keshab Chandra Gogoi : रंजन गोगोई कांग्रेस के नेता और असम के पूर्व मुख्यमंत्री केशब चन्द्र गोगोई के बेटे है, बड़े कांग्रेस नेता थे इनके पिता जी, जाहिर सी बात है जज बन्ने में काफी सहयोग पिता से मिला, कांग्रेस के कारण जज बने
  • रंजन गोगोई उन 4 जजों में है जो दीपक मिश्र के खिलाफ प्रेस कांफ्रेंस करने आये थे, और कहा था की अदालत खतरे में है, इस ग्रुप में 4 जज थे, जिनके लीडर थे जज चेलेमेश्वर, जज चेलेमेश्वर वामपंथी यानि अर्बन नक्सली नेता डेनियल राजा के साथ गुप्त तरीको से देखे गए, साथ ही अर्बन नक्सली शेखर गुप्ता के साथ भी देखे, अब रंजन गोगोई के भी इन लोगों से संबंध है ये जाहिर होते है
  • देश की वामपंथी पार्टियाँ राम मंदिर, और कई अन्य केसों में अलग अलग बेंचों की मांग करती आई है, वपंथी पार्टियाँ अपने मन पसंद जजों को महत्व्यपूर्ण केसों में चाहती है, और वामपंथी पार्टियों के पसंद के जज है रंजन गोगोई

जिस शख्स पर महावियोग लगाकर अबतक बर्खास्त किया जाना चाहिए था वो शख्स, वो चेलेमेश्वर का साथी, वो कांग्रेस नेता का बेटा अब हमारे देश का CJI होगा !

CJI की ताकत क्या होती है ? सुप्रीम कोर्ट में कोई भी केस आता है, तो ये CJI तय करता है की कौन सा केस किस जज के पास जायेगा, बेंच बनानी है या नहीं, केस की सुनवाई किस जज से होगी, इत्यादि फैसले CJI ही करते है

वामपंथी लोग दीपक मिश्र से इसलिए परेशान थे क्यूंकि दीपक मिश्र महत्व्यपूर्ण केस जैसे की राम मंदिर, धरा 370, रोहिंग्या, बंगलादेशी इत्यादि, ये तमाम केस उनके पसंद के जजों को नहीं सौंपते थे, इसी कारण वामपंथियों ने 4 जज विद्रोह में उतार दिए, अब उसी 4 में से 1 जज CJI होगा

loading...

 

यानि अब ये तय है की भारत की सेना, भारत देश, और यहाँ का मुख्य समाज, इनसे जुड़े जितने भी महत्व्यपूर्ण केस है, वो अब ऐसे जजों को ही सौंपे जायेंगे, ऐसे बेंचों को ही सौंपे जायेंगे जो रंजन गोगोई 3 अक्तूबर के बाद तय करेंगे, यानि सीधे तौर पर कांग्रेस और वामपंथियों की पसंद के जजों के पास सारे महत्व्यपूर्ण केस जायेंगे

देश, यहाँ की सेना और हिन्दुओ से जुड़े कौन कौन से केस है : देश – रोहिंग्या, बंगलादेशी, धारा 370, 35A, अर्बन नक्सली, यूनिफार्म सिविल कोड इत्यादि, सेना – AFSPA, पैलेट गन इत्यादि, हिन्दू – राम मंदिर, हिन्दू त्यौहार इत्यादि

अब देश सेना और यहाँ का मुख्य हिन्दू समाज तैयार हो जाये भीषण फैसलों के लिए ! इस देश का इश्वर ही अब मालिक है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!