Press "Enter" to skip to content

संभाजी भिड़े निकले निर्दोष, नहीं मिला कोई सबूत, हिंदुत्व को बदनाम करने वालों के मुह पर तमाचा

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Sambhaji bhide found innocent
Sambhaji bhide found innocent

Sambhaji bhide found innocent : चाहे खुद को सेक्युलर कहने वाली शक्तियां हो, खुद को वामपंथी बताने वाली शक्तियां हो, जिहादी और मिशनरी शक्तियां हो, भारत में इन सबके निशाने पर हिन्दू ही है 

और जब भी कोई हिन्दू अच्छा काम करता है, चाहे वो समाजसेवी हो, संत हो, नेता हो तो ये आसुरी शक्तियां उसे बदनाम करने की कोशिश करती है, उसे ख़त्म करने की, उसे क़ानूनी पचड़े में फंसाने की कोशिश करती है, ताकि धर्मांतरण का धंधा, जिहाद इत्यादि आसानी से बिना रुकावट चल सके


महाराष्ट्र में हिन्दू संत है संभाजी भिड़े, इनके करोडो चाहने वाले है, ये हिंदुत्व को समर्पित हैं और समाज के लिए काम करते है, ये सेवा का कार्य करते है, बहुत ही ताकतवर शख्स है पर रहते एकदम साधारण व्यक्ति की तरह, ये धर्मांतरण में भी एक बड़ी बाधा है इसलिए सेक्युलर वामपंथी जिहादी और मिशनरी इनके खिलाफ लगी रहती है

loading...

पिछले दिनों वामपंथी मीडिया ने इनके खिलाफ खूब एजेंडा चलाया और वामी मीडिया और सेकुलरों के दबाव में सरकार ने इनके खिलाफ FIR लिख लिया, उसके बाद जांच भी हुई और मीडिया सरकार ने सरकार पर संभाजी भिड़े के खिलाफ कार्यवाही के लिए लगातार दबाव बनाये रखा

पर अब सच सामने है संबाजी भिड़े के खिलाफ पुलिस को कोई सबूत ही नहीं मिले, इनके खिलाफ सभी मामले गलत और फर्जी साबित हुए और आख़िरकार पुलिस ने संभाजी भिड़े पर लगाये केस वापस ले लिए

loading...

संभाजी भिड़े एक बुजुर्ग है और भीमा कोरेगांव में ये मौजूद भी नहीं थे फिर भी इनके खिलाफ वामी मीडिया और सेकुलरों के दबाव में सरकार ने दंगा करने का केस दर्ज कर लिया, पर आख़िरकार दूध का दूध और पानी का पानी हो ही गया, संभाजी के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला और ये निर्दोष साबित हुए, सबूत ही नहीं मिला तो पुलिस ने अदालत में केस वापसी की अर्जी डाली

मीडिया और वामपंथियों ने इस हिन्दू संत को बड़े पैमाने पर बदनाम करने और फंसाने की कोशिश की पर आख़िरकार सच और हिंदुत्व की जीत हुई !

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!