Press "Enter" to skip to content

एग्जाम हॉल में घुसने से पहले मंगलसूत्र निकलवाया, कलावा कटवाया, बुर्खा वाली को जाने दिया

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Secular Terrorism against Hindus
Secular Terrorism against Hindus

Secular Terrorism against Hindus : इस देश में भोले भले या यूँ कहिये मुर्ख हिन्दू के खिलाफ सेक्युलर आतंकवाद पिछले 70 सालों से लगातार जारी है, और बड़ी चीज ये है की हिन्दुओ को इसका पता भी अबतक नहीं चल सका है 

सारे नियम कानून, सारा सेकुलरिज्म सिर्फ हिन्दुओ को निभाना है, वो भी ऐसा सेकुलरिज्म जिसे सीधे नॉन सेन्स कहा जा सकता है, मंगलसूत्र और कलावा से एग्जाम में क्या समस्या आ सकती है ?


कलावा तो धागा होता है, घडी से भी पतला होता है, ब्रासलेट से भी पतला होता है, और मंगलसूत्र तो आम सी माला होती है, पतली सी, इसमें आप कौन सा चीटिंग का सामान छिपाकर ले जा सकते है

पर इस स्कुल में क्या हुआ ये आप देखिये 

loading...

ये तेलंगाना का एक स्कुल है जहाँ पर एग्जाम सेण्टर है, एग्जाम में लोग बैठने के लिए जा रहे है, जो हिन्दू महिलाएं मंगलसूत्र पहनकर आ रही है उनका मंगलसूत्र उतरवाया जा रहा है, और कोई विरोध भी नहीं कर रहा

साथ ही हाथ में जो कलावा बांधकर आ रहा है उसका कलावा पत्थर से कटवाया जा रहा है, और वो भी अपना कलावा कटवा रहा है, न कोई विरोध कर रहा है और न ही किसी को आपत्ति है, अत्याचार किया जा रहा है और अत्याचार सहा भी जा रहा है

वहीँ इसके उल्ट इसी एग्जाम हॉल में इस्लामिक टोपी पहनकर जाने पर किसी को आपत्ति नहीं है, बुरखा पहनकर आई महिलाओं से कोई रोकटोक नहीं सिर्फ हिन्दुओ का ही मंगलसूत्र, कलावा कटवाया गया

loading...

पहली चीज तो ये है की मंगलसूत्र और कलावा से एग्जाम और चीटिंग जैसी किसी चीज का कोई खतरा ही नहीं ये तो सीधे तौर पर हिन्दुओ को अपमानित करने का फरमान है, आतंकवाद मचाया जा रहा है हिन्दू के खिलाफ, और हिन्दू उसे सह भी रहा है !

हिन्दुओ में इतनी हीन भावना भर दी गयी है की कल को जाकर हिन्दुओ को नंगा होने को कहा जायेगा तो वो नंगे भी हो जायेंगे, कलावा और मंगलसूत्र खोल रहे ये लोग पूछ भी नहीं रहे की इस से दिक्कत क्या है, अत्याचार करने वाले से ज्यादा बड़ा पापी अत्याचार सहने वाला है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!