Press "Enter" to skip to content

इसाई पादरी ने नन का 13 बार किया रेप तब भी नहीं किया गया गिरफ्तार, हिन्दू संत किसी के कंधे पर हाथ रख दे तो हो जाती है उम्रकैद : सुब्रमण्यम स्वामी

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Subramanian Swamy on bishop franco mulakkal
Subramanian Swamy on bishop franco mulakkal

Subramanian Swamy on bishop franco mulakkal : केरल की एक नन के साथ चर्च के पादरी फ्रांको मुलाक्कल ने 1-2 बार नहीं बल्कि जान से मारने की धमकियाँ देकर 13 बार बलात्कार किया है

पादरी फ्रांको मुलाक्कल ने नन का पहली बार रेप किया तो उसे जान से मारने की धमकी दी, नन की गलती ये हो गयी की वो धमकी से डर गयी, इसका फायदा उठाकर पादरी ने नन का 12 बार बालात्कार किया और बार बार जान से मारने की धमकी दी


जिस पादरी ने ये हरकत की उसकी तस्वीर नीचे है

 पादरी फ्रांको मुलाक्कल
पादरी फ्रांको मुलाक्कल

अबतक केरल की सरकार ने इसे गिरफ्तार नहीं किया है, जबकि मामला रेप का है, महिला की शिकायत है, पर इसाई आबादी 25% है और सभी कट्टरपंथी अपने बलात्कारी मजहब गुरु के साथ खड़े हो गए है, इसलिए केरला की वामी सरकार कोई कार्यवाही नहीं कर रही है

और साथ ही साथ देश के तमाम मीडिया वाले भी मौन है, जबकि कोई हिन्दू साधू का मामला हो तो पुरे देश में डिबेट शुरू हो जाती है

loading...

 

राज्यसभा सांसद डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने आज इस मामले पर तीखा कटाक्ष किया है, देखें डॉ स्वामी का त्वीट

 


डॉ सुब्रमण्यम स्वामी ने दोगले कानून, दोगली मीडिया और दोगले बुद्धिजीवी तत्वों पर कटाक्ष किया है और कहा की – अगर कोई हिन्दू साधू किसी लड़की के कंधे पर हाथ भी रख दे तो उसे उम्रकैद हो जाती है, ऐसा आसाराम के मामले में किया गया है, FIR में रेप का कोई जिक्र नहीं

loading...

 

पर केरल के एक पादरी ने एक नन का 13 बार बर्बरता से बलात्कार किया है पर उसे गिरफ्तार तक नहीं किया गया है, नन न्याय की भीख मांग रही है पर केरल की वामी सरकार, मीडिया, और बुद्धिजीवी मौन है

ये वो लोग है जो खुद को फेमिनिस्ट कहते है पर अगर कोई मौलवी या पादरी महिलाओं का बलात्कार करे उसे नोचे तो ये तमाम लोग मौन हो जाते है और कानून भी ऐसे मामलों में दोग्लों की तरह काम करता है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!