Press "Enter" to skip to content

महात्मा गोडसे ने गाँधी को सिर्फ 2 ही गोली मारी थी, पर गाँधी के शरीर से निकली थी 3 गोलियां

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
How many bullets Godse shot Gandhi
How many bullets Godse shot Gandhi

How many bullets Godse shot Gandhi : देश से बहुत कुछ छुपाया गया है और ये जानकारियां आज भी किसी को नहीं है, कई सारी फाइल्स अभी तक दबाकर रखी गयी है और नेहरू परिवार से जुड़े हुए ये दस्तावेज आजतक गुप्त बने हुए है

मोहनदास गाँधी का वध महात्मा गोडसे ने किया था, महात्मा गोडसे ने मोहनदास गाँधी को गोली मारकर उसका वध किया था, पर एक बढ़त बड़ी चीज आज हम आपके साथ साझा करना चाहते है, जिसे आप ध्यान से पढ़कर समझ सकते है


जवाहर लाल नेहरू प्रधानमंत्री बन चूका था

मोहनदास गाँधी को महात्मा गोडसे ने दिल्ली में गोली मारी, ध्यान देने वाली चीज ये है की महात्मा गोडसे ने मोहनदास गाँधी पर 2 ही गोलियां चलाई थी, सिर्फ 2

उसके बाद फ़ौरन लोग गाँधी को अस्पताल लेकर गए पर बड़ी चौंकाने वाली बात ये रही की

मोहनदास गाँधी को बचाते बचाते डाक्टरों ने उसके शरीर से 3 गोलियां निकाली

loading...

महात्मा गोडसे ने तो सिर्फ 2 ही गोली मारी थी, फिर ये तीसरी गोली कहाँ से आयी ?

प्रधानमंत्री नेहरू ही था, और इस से भी बड़ी चीज ये की मोहनदास गाँधी का अंतिम संस्कार बड़े आनन् फानन में किया गया, मोहनदास गाँधी का पोस्ट मार्टम भी नहीं किया गया

बड़ा गंभीर सवाल ये है की 2 गोली महात्मा गोडसे ने मारी, गाँधी के शरीर से 3 गोलियां निकली

और बिना पोस्ट मार्टम नेहरू सरकार ने गाँधी का अंतिम संस्कार भी करवा दिया

How many bullets Godse shot Gandhi
How many bullets Godse shot Gandhi

ये तीसरी गोली किसने मारी ?

बहुत हद तक सम्भावना है की नेहरू ने ही मोहनदास गाँधी को तीसरी गोली मरवाई

वो प्रधानमंत्री था, पोस्ट मार्टम नहीं करवाया, 2 गोली महात्मा गोडसे ने मारी, गाँधी के शरीर से 3 गोलियां निकली 1 गोली किसने मारी इसकी जांच भी नेहरू ने नहीं करवाई

loading...

साफ़ होता है की ये तीसरी गोली के पीछे कोई और नहीं बल्कि नेहरू ही था

क्यूंकि कई जानकर मानकर चल रहे थे की नेहरू के प्रधानमंत्री बनने से बहुत से कांग्रेस नेता नाराज चल रहे है और वो लगातार गाँधी से बात कर रहे थे, नेहरू को भय था की गाँधी उस से इस्तीफा न मांग ले

और पटेल को प्रधानमंत्री का पद न मिल जाये

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!