Press "Enter" to skip to content

मोहम्मद मुज़म्मिल ने मानसी दीक्षित को काटकर बैग में पैक कर दिया, बड़ा इन्सान लगता था मुज़म्मिल

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case
Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case

Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case : फिर एक हिन्दू मा बाप, नहीं सेक्युलर हिन्दू माँ बाप ने अपनी बेटी को खो दिया, ऊपर आपको 2 तस्वीर दिखाई दे रही होगी, दोनों 1 ही लड़की की है 

ये थी कोटा राजस्थान की 20 साल की मानसी दीक्षित जो की मॉडल भी थी, माँ बाप ने सेक्युलर के रूप में बड़ा किया – सबसे बड़ी चीज हम इस आर्टिकल में फिर लिख रहे है – आप अपने बच्चों को ये सिखाकर बड़ा करते हो की सब इन्सान है, कोई भेदभाव नहीं, पूरा सेक्युलर बनाते हो, पर वो अपने बच्चों को ये बताकर ही बड़ा करते है की सामने वाला काफिर है, आपके लिए वो इन्सान है पर उसके लिए आप काफिर, ये बात आप समझ जाये तो कई लड़कियां बच सकेंगी


मानसी दीक्षित मुंबई में बैग के अन्दर मिली कटी हुई, मरी हुई – मोहम्मद मुज़म्मिल सयेद ने इसको मार डाला – दोनों की मित्रता सोशल मीडिया पर हुई थी, अब इस मानसी दीक्षित की भी कोई खास गलती नहीं है, इसके माँ बाप ने सेक्युलर के रूप में ही बड़ा किया, और ऐसी लड़कियों को रमेश और मोहम्मद में कोई अंतर नहीं दिखता

loading...

ऐसी लड़कियां समझ ही नहीं पाती की सामने वाले को वो भले इन्सान समझ रही हो, पर वो आपको काफिर ही समझ रहा है, कोई भी कट्टरपंथी अपनी मजहबी किताब से ऊपर उठकर आपको इन्सान नहीं समझ सकता

Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case
Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case

20 साल की मानसी दीक्षित को उनका इन्सान मोहम्मद मुज़म्मिल बहुत अच्छा लगा, और मैडम उसके साथ रिलेशनशिप हो गयी, अब मोहम्मद मुज़म्मिल ने ध्रदार हथियार से मानसी दीक्षित को काटकर बैग में पैक कर दिया

Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case
Muhammad Muzmmil Mansi Dixit Case
loading...

एक के बाद एक ऐसी घटनाएं सामने आती है, एक सेक्युलर माँ बाप ने अपनी 20 साल की बेटी को खो दिया, ये है सेकुलरिज्म का भयानक अंजाम

आप लोग जो टीवी और बॉलीवुड वालो को देखकर सच बोलने वालो को सांप्रदायिक कहते हो, आपकी ही बेटियों का ये हश्र होता है, हमे कोई लाख सांप्रदायिक कहे पर हम कडवी बात कहना नहीं छोड़ेंगे, और सच ये है की मोहम्मद मुज़म्मिल के चक्कर में न फंसती तो मानसिक दीक्षित जिन्दा होती ! अभी भी लाखों मानसी दीक्षित मैडम लोग मोहम्मद मुज़म्मिलों को ही इन्सान समझती है, और उनको कोई समझाए तो समझाने वाला भगवा संघी आतंकी हो जाता है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!