Press "Enter" to skip to content

पटेल की मूर्ति 3 हज़ार करोड़ की, पर इन तीनो के दिल्ली में स्मारकों की जमीन ही 3 लाख करोड़ की

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Patel vs Nehru Dynasty
Patel vs Nehru Dynasty

Patel vs Nehru Dynasty : सरदार पटेल की मूर्ति गुजरात में बनी, आज 31 अक्टूबर 2018 को पटेल की भव्य मूर्ति को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को समर्पित कर दिया 

ये मूर्ति दुनिया में सबसे ऊँची मूर्ति है और इस मूर्ति के बनने के आर्थिक तौर पर भी भीषण लाभ है – इस मूर्ति के नाम वर्ल्ड रिकॉर्ड है सबसे ऊँची मूर्ति होने का, इसे भारत ही नहीं बल्कि दुनिया के कोने कोने के लोग देखने आयेंगे, इस से इलाके में पर्यटन का पूरा उद्योग चलेगा


कुछ ही दिनों में इस इलाके में भव्य होटल, रेस्तरा खुल जायेंगे, पूरा पर्यटन यातायात खान पान उद्योग, जिस से लोगों को बड़े पैमाने पर रोजगार मिलेगा, सिर्फ इस मूर्ति के कारण लाखों लोगों का तो घर चलेगा, इस मूर्ति को बनाने में 3 हज़ार करोड़ रुपए का खर्च आया है, वो भी 3 साल तक ऑपरेशन और रख रखाव सहित

सरदार पटेल की इस मूर्ति से चीन और पाकिस्तान बुरी तरह जले हुए है, इसके साथ साथ कांग्रेस पार्टी और वामपंथी नस्ल के लोग भी पटेल की मूर्ति से बौखलाए हुए है और वामपंथी नस्ल के लोग पुराना डाइलोग मार रहे है, कोई कह रहा है की मोदी ने पैसे को जला दिया मूर्ति की जगह अस्पताल, स्कुल बनवाता

loading...

कोई कह रहा है की मोदी ने 3 हज़ार करोड़ रुपए लूट लिए, वामपंथी नस्ल के लोग ये नहीं समझ पा रहे की मूर्ति से इलाके में कितना रोजगार उत्पन्न होने वाला है, खैर

वामपंथी नस्ल के लोग जो पटेल की मूर्ति पर 3000 करोड़ रुपए का रोना रो रहे है, ये वही लोग है जो गाँधी नेहरु खानदान की स्मारकों पर बढ़िया बढ़िया लेख लिखते है उसकी खूब तारीफ करते है

दिल्ली में नेहरु इंदिरा और राजीव गाँधी की स्मारक है, दिल्ली के राजघाट इलाके में तीनो के स्मारक है, और तीनो ने ही कई कई एकड़ जमीन पर कब्ज़ा किया हुआ है, और ये जमीने देश की सबसे महँगी जमीने है, और सिर्फ राजीव इंदिरा नेहरु की 3 स्मारकों के जमीन की कीमत ही 3 लाख करोड़ रुपए है

Patel vs Nehru Dynasty
Patel vs Nehru Dynasty
loading...

Patel vs Nehru Dynasty : जिन लोगों को पटेल की 3 हज़ार करोड़ रुपए की मूर्ति से आपत्ति है ऐसे लोगों को दिल्ली में नेहरु इंदिरा और राजीव के स्मारकों की जमीन को बिकवाना चाहिए, ये 3 लाख करोड़ की जमीन पर कब्ज़ा किये हुए है, सभी ने कई कई एकड़ जमीन कब्जाई हुई है, इन जमीनों को बेचकर देश में बहुत कुछ किया जा सकेगा, और बड़ी चीज ये की इन स्मारकों से कोई कमाई भी नहीं होती, उल्टा हर साल इनके रख रखाव पर करोडो रुपए बर्बाद अलग से किया जाता है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!