Press "Enter" to skip to content

“मियां लार्ड” पटाखों के नहीं बल्कि जनसँख्या विस्फोट पर लगाओ रोक, वरना एक दिन कोर्ट भी नहीं बचेगा

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Population Jihad in India
Population Jihad in India

Population Jihad in India : कोई भी इस ग़लतफ़हमी में बिलकुल न रहे, जैसे ही कट्टरपंथी आबादी ज्यादा हुई, आंबेडकर का ये संविधान और भारत का नाम तक नहीं होगा 

इनके बड़े बड़े मजहब गुरु सीना ठोक कर लाइव टीवी पर बोल चुके है की औरंगजेब, गजनी इनके आदर्श है, और इनके बड़े बड़े संगठन सीना ठोक कर कह चुके है की हमारे लिए संविधान से पहले कुरान है, तो भैया ये ज्यादा हुए तो शरिया कोर्ट होगा, संविधान वाला कोर्ट नहीं, और कोई भी इस बात में शक बिलकुल न रखे


इस देश का सुप्रीम कोर्ट किसी भी मामले का स्वतः संज्ञान ले सकता है, मीलार्ड आजकल दिवाली आते ही हर साल पटाखों के विस्फोट को लेकर एक्टिव हो जाते है, नया नियम बना दिया की दिवाली पर हिन्दू 8 से 10 के बीच ही पटाखे फोड़ सकते है बस

वैसे 31 जनवरी को इसाई नए वर्ष पर रात को 12 बजे भी पटाखा फोड़ो, हमारे देश के मियां लार्ड दोगले है जी, और ये बात भी हम सीना ठोक कर कहते है

loading...

देखो – ईसाईयों के नए साल पर रात भर पटाखे फोड़ो, बार 2 बजे तक, और आतंकियों के लिए कोर्ट 3 बजे, 4 बजे, सुबह 5 बजे कभी भी, पर दिवाली के पटाखे सिर्फ 8 से 10 बजे तक, और हां वो पुराना डाइलोग की कानून सबके साथ 1 जैसा व्यवहार करता है

वैसे इस देश में मियां लार्ड हर चीज के स्वयं ज्ञानी है, हमारी कोई हैसियत नहीं की हम मियां लार्ड को कोई सलाह दे सके, पर हम बत्तिमीजी और गिस्ताखी करते हुए बिना मांगे ही सलाह दे रहे है

मियां लार्ड जो दिवाली आते ही पटाखों के विस्फोट पर एक्टिव हो जाते है, हे मियां लार्ड इस देश की आबादी अब कागज के हिसाब से 140 करोड़ हो गयी है, और असल में 150 करोड़ पार कर चुकी है

अगर विस्फोट पर रोक लगाना ही है तो पटाखों की बाद में सोचना पहले जनसँख्या विस्फोट पर रोक लगाओ, वरना जल्द ही कट्टरपंथी आबादी इतनी ज्यादा होगी की यहाँ आंबेडकर के संविधान वाले कोर्ट नहीं बल्कि शरिया कोर्ट चलते दिखाई देंगे, मियां लार्ड भी नहीं बचेंगे, वैसे मांग तो शरिया कोर्ट की अभी से शुरू भी हो गयी है, और उसके लिए देश तोड़ने की धमकियाँ भी दी जा चुकी है

loading...

पटाखों की समस्या जो भी है, पटाखों के विस्फोट से ज्यादा खतरनाक है जनसंख्या विस्फोट, और हम शर्मायेंगे नहीं साफ़ साफ लिखेंगे – जनसँख्या विस्फोट एक खास मजहब एजेंडे के तहत कर रहा है, गजवा हिन्द का एजेंडा

Population Jihad : मियां लार्ड आपको जनसंख्या विस्फोट के बारे में सोचना चाहिए ताकि कुछ दशको बाद भी ये देश और आपकी अदालत बची रहे

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!