Press "Enter" to skip to content

अयोध्या केस में समय न लगाये SC, हिन्दुओ की भावना को समझे कोर्ट : योगी आदित्यनाथ

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Yogi asked SC to give verdict in Ayodhya case without delay
Yogi asked SC to give verdict in Ayodhya case without delay

Yogi asked SC to give verdict in Ayodhya case without delay : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पिछले दिनों कहा था की अयोध्या में भव्य राम मंदिर को बनाये जाने की तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए 

और आज योगी ने राम मंदिर पर एक और बड़ा बयान देते हुए सुप्रीम कोर्ट के जजों से कहा की – अयोध्या केस की सुनवाई जल्द से जल्द पूरी की जाये, हिन्दू आस्था का सवाल है और अब कोर्ट अयोध्या केस में जल्द ही अपना फैसला दे, मामले को लटकाकर न रखा जाये


योगी ने कहा की – सबरीमाला मंदिर के मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट ने जल्द ही फैसला दे दिया, अगर सुप्रीम कोर्ट सबरीमाला मंदिर पर फैसला दे सकता है तो फिर कोर्ट को अयोध्या मसले पर भी फैसला देना चाहिए, ये मामला हिन्दू भावनाओं से जुड़ा हुआ है

loading...
Yogi asked SC to give verdict in Ayodhya case without delay
Yogi asked SC to give verdict in Ayodhya case without delay

आपकी जानकारी के लिए बता दें की अयोध्या मसले अदालतों में दशको से है, खुद सुप्रीम कोर्ट में ये मामला 2010 से ही लटका हुआ है, इस मामले को कोर्ट ने लटकाए रखा है, 8 साल से इस मामले में कोर्ट में कोई खास सुनवाई नहीं हुई, और आज भी ये मामला लटका हुआ है

दूसरी तरफ हिन्दुओ की भावना आये दिन आहात हो रही है, और आज योगी ने कहा की सबरीमाला पर फैसला जल्द दिया जा सकता है तो अयोध्या पर भी जल्द फैसला दिया जाये

loading...

आपको ये भी बता दें की योगी सरकार के पास भी अपना एक विकल्प है, वो है भूमि अधिग्रहण – कोई भी राज्य सरकार अपने राज्य में किसी भी भूमि को अधिग्रहित कर सकती है, चाहे वो कोई भी जमीन हो, यूपी सरकार भी अयोध्या की जमीन को अधिग्रहित कर सकती है, पर इसपर खूब राजनीती की जाएगी और दंगे का माहौल बनाये जायेगा, हिन्दुओ के सब्र का बाँध तो टूट ही रहा है और आज योगी ने भी कह दिया की मंदिर पर जल्द कोर्ट ही अपना फैसला दे दे

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!