Press "Enter" to skip to content

फैजाबाद का नाम बदलकर योगी ने ठीक नहीं किया, ये राम नहीं उमराव जान की नगरी है : अफरा खानुम शेरवानी, मुस्लिम पत्रकार

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
arfa khanum sherwani on faizabad
arfa khanum sherwani on faizabad

arfa khanum sherwani on faizabad : पहली बात तो आपको ये बता दें की उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद का कोई नाम नहीं बदला, नाम तो आतंकवादियों ने बदला था, असल नाम अयोध्या ही था है और रहेगा, योगी ने बस नाम वापस लौटाया 

पर योगी के इस फैसले से देश भर के सेक्युलर, वामपंथी नस्ल के लोग, और कट्टरपंथी मुसलमान नाराज है, कोई योगी को सांप्रदायिक बता रहा है, तो कोई फैजाबाद को अपनी विरासत बता रहा है, यहाँ तक की कुछ तो इस शहर को उमराव जान का शहर बता रहे है, भगवान् राम का नहीं


पहले आपको बता दें की उमराव जान एक वैश्या थे, एक प्रोस्टीटूट थी, देश के कट्टरपंथियों के मुताबिक शहर को भगवान् राम से नहीं बल्कि उमराव जान के नाम से पहचाना जाना चाहिए, जो की असल में एक वैश्या थी, लोग भगवान् राम पर नहीं बल्कि एक वैश्या को अपना माने, लोग राम से नहीं बल्कि एक वैश्या से खुद को सम्मानित महसूस करे

loading...

अफरा खानुम नाम की कट्टरपंथी मुस्लिम पत्रकार जो हिन्दुओ और भारत के खिलाफ जहर उगलने वाली कम्युनिस्ट पोर्टल द वायर में इन दिनों काम कर रही है, उसने योगी आदित्यनाथ के फैसले को साम्प्रदायिकता घोषित कर दिया है

अरफा खानुम शेरवानी के मुताबिक अयोध्या को भगवान् राम से नहीं बल्कि उमराव जान से पहचाना जाना चाहिए, अयोध्या राम की नहीं बल्कि उमराव जान की नगरी है, देखिये इस मुस्लिम पत्रकार की मानसिकता

पहली बात तो ये है की फैज़ या उमराव जान कोई सऊदी अरब से शहर को लेकर भारत नहीं आया, शहर का नाम अयोध्या ही था है और आगे भी रहेगा, फैजाबाद नाम कहाँ से हो गया

दूसरी चीज अयोध्या किसी वैश्या का शहर नहीं है ये भगवान् राम का शहर है, और एक शहर को उसका गौरव लौटना कोई साम्प्रदायिकता नहीं है

arfa khanum sherwani on faizabad : तीसरी चीज – अरफा खान शेरवानी जो योगी आदित्यनाथ को सांप्रदायिक बता रही है, ये खुद एक कट्टरपंथी सांप्रदायिक है, जो एक पवित्र शहर को वैश्या का शहर बता रही है

loading...

सबसे महत्व्यपूर्ण चीज तो ये है की – अगर आपके गाँव का नाम भगवानपुर है, अचानक कुछ आतंकवादी आकर आपके गाँव पर कब्ज़ा करके उसका नाम इस्लामपुर कर दे, तो आपके गाँव का नाम इस्लामपुर नहीं हो जाता, भारत के किसी भी शहर का नाम इस्लामिक नहीं हो सकता, और जिनका भी नाम इस्लामिक है, वो आतंकवादियों ने किया है, और हर शहर की घर वापसी होनी चाहिए, भारत के शहरों की भारतीय पहचान होनी चाहिए, सऊदी अरब के मजहब इस्लाम की इस्लामिक पहचान नहीं

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!