Press "Enter" to skip to content

चिल्ड्रेन डे नेहरु के नाम पर नहीं बल्कि गुरु गोविन्द के बलिदानी पुत्रों के नाम पर मनाना चाहिए : राजा सिंह

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
children day should not be celebrated on nehru's name says raja singh
children day should not be celebrated on nehru’s name says raja singh

children day should not be celebrated on nehru’s name says raja singh : कांग्रेस का बस चलता तो वो जल और हवा का नाम भी नेहरु गांधियों के नाम पर रख देती, नेहरु गाँधी खानदान ने हमेशा से खुद को इस देश का मालिक समझा है 

राजीव गाँधी के नाम पर भारत का सबसे बड़ा खेल अवार्ड दिया जाता है, जिसे कहते है “राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड” ये एक तरह से खेलों का भारत रत्न है, पर आप स्वयं बताइए की राजीव गाँधी नेशनल, स्टेट, जिला लेवल तो छोडिये, ग्राम पंचायत लेवल में भी किस खेल के खिलाडी थे ?


इस देश में चिल्ड्रेन डे जवाहर लाल नेहरु के नाम पर आज 14 नवम्बर को मनाया जाता है, फर्जी इतिहासकार बताते है की नेहरु को बच्चों से बहुत प्यार था इसलिए सब उन्हें चचा नेहरु कहकर बुलाते थे, पर असल सच्चाई ये है की नेहरु को बच्चों से नहीं बल्कि अंग्रेजी और विदेशी मेमों से प्यार था

loading...

पिछले कई सालों से मांग होती आ रही है की बाल दिवस को नेहरु की जगह गुरु गोविन्द सिंह के बेटों के नाम पर मनाना चाहिए, ज़ुरावर सिंह और फ़तेह सिंह गुरु गोविन्द सिंह के 2 बेटे थे, जिन्होंने अपना बलिदान धर्म और देश की रक्षा के लिए दे दिया, 14 नवम्बर को बाल दिवस नेहरु के नाम पर नहीं बल्कि गुरु गोविन्द के बेटों के नाम पर होना चाहिए, दोनों ही बाल बलिदानी थे, दोनों बालक थे

राजा सिंह ने भी आज मांग करी की बाल दिवस नेहरु के नाम पर नहीं बल्कि गुरु गोविंद सिंह के बेटों के नाम पर होना चाहिए, ताकि बच्चों को उनसे प्रेरणा मिल सके

loading...

अब आप गूगल पर नेहरु की तस्वीर खोलिए, उसकी विदेशी औरतों के साथ स्विमिंग पूल में बैठे तस्वीर मिलेगी, विदेशी औरत के साथ सिगरेट पीती तस्वीर मिलेगी, आखिर हम अपने बच्चों को नेहरु से क्या प्रेरणा देना चाहते है

जबकि ज़ुरावर सिंह और फ़तेह सिंह ने बच्चों को बहादुरी, धर्मनिष्ठ, और देश भक्ति की प्रेरणा मिलेगी

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!