Press "Enter" to skip to content

भारत राम कृष्ण का देश है, मुसलमानों को इसका सम्मान करना ही होगा, राम कृष्ण हमारी संस्कृति : रिजवान अहमद

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Dr Syed Rizwan Ahmed
Dr Syed Rizwan Ahmed

Dr Syed Rizwan Ahmed : भले ही हमारा मजहब कोई भी हो पर हम भारतीयों के लिए राम कृष्ण हमारी संस्कृति है, ये देश राम और कृष्ण का है, और भारत के मुसलमानों को इस बात का सम्मान करना ही होगा 

वरिष्ट वकील और सामाजिक कार्यकर्त्ता तथा कट्टरपंथियों से लड़ने वाले डॉ सयेद रिजवान अहमद ने भारत को राम और कृष्ण का देश बताया है, उन्होंने कहा है की भारत के मुसलमानों को राम और कृष्ण का सम्मान करना होगा, राम और कृष्ण हमारी संस्कृति है


डॉ सयेद रिजवान अहमद ने अयोध्या में भगवान् राम के मंदिर बनाये जाने का समर्थन किया और कहा की मुसलमानों को राम मंदिर के लिए आगे आना चाहिए, राम उनके भी पूर्वज है, भले ही उनका मजहब कोई भी हो पर पूर्वज तो बदल नहीं सकते, राम और कृष्ण ही हमारी संस्कृति है

loading...

डॉ सयेद रिजवान अहमद ने कहा की – मजहब के अनुसार अगर कुरान मेरे लिए सम्मानजनक है तो संस्कृति के अनुसार गीता मेरे लिए सम्मानित है, अगर मजहब के अनुसार फातिमा सम्मानजनक है तो संस्कृति के अनुसार सीता मेरे लिए सम्मानित हैं, मजहब के अनुसार मोहम्मद मेरे लिए सम्मानजनक है तो संस्कृति के अनुसार राम और कृष्ण मेरे लिए सम्मानित है

डॉ सयेद रिजवान अहमद ने कहा की मजहब आप चाहे जो भी बदल लो पर आपके पूर्वज आप कभी नहीं बदल सकते, हम भारतीय है तो हमारे पूर्वज राम और कृष्ण है, मजहब का सम्मान करना चाहिए तो संस्कृति का भी सम्मान करना चाहिए

डॉ सयेद रिजवान अहमद ने ये भी कहा की अयोध्या में मंदिर था, तो मंदिर ही बनना चाहिए, और इसका समर्थन देश के हर शख्स को करना चाहिए चाहे वो किसी भी मजहब का हो

loading...

वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें की देश में अधिकतर मुसलमानों की सोच को रिजवान अहमद जैसे लोग नहीं बल्कि इस देश के वहाबी कट्टरपंथी तत्व ही संचालित करते है, इसी कारण देश में नफरत फैलती है

रिजवान अहमद जैसे लोगो की बात सच है, भारतीय मुस्लमान कोई सऊदी से नहीं आया, उसके पूर्वज हिन्दू ही थे, पर कट्टरपंथियों ने मुसलमानों के मस्तिस्क में ये बात घुसाई हुई है की मुस्लमान सऊदी वालो की औलाद है, जबकि सऊदी वाले खुद भारतीय मुसलमानों को अल हिंदी मसकीन कहते है, यानि हिन्दुओ की संतान

One Comment

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!