Press "Enter" to skip to content

निकाह के समय अपने मामा से दूर रहे दूल्हने, वरना मामा के मन में आ सकता है सेक्स का विचार – दारुल उलूम देवबंद

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Islamic marriage Fatwa
Islamic marriage Fatwa

Islamic marriage Fatwa : इस्लामिक फतवे आये दिनों चर्चा में रहते है, कभी औरतों को केले ककड़ी से दूर रहने का फतवा, कभी नेल पोलिश का फतवा, वैसे अक्सर फतवे महिलाओं को लेकर ही आते है, जैसे मुस्लिम पुरुष तो एकदम आदर्श हो, कमी सिर्फ मुस्लिम औरतों में ही हो 

अब एक नया फतवा आ गया है ये फतवा भी दारुल उलूम देवबंद से ही आया है जिसमे कहा गया है की निकाह के समय डोली रस्म के समय दुल्हने अपने मामा  से दुरी बनाकर रखे वरना उनके मन में सेक्स का विचार आ सकता है


दारुल उलूम देवबंद ने कहा है की मामा द्वारा दुल्हन को डोली में बिठाये जाने की परंपरा को अब ख़त्म कर देना चाहिए, इस्लामिक शादियों में मामा द्वारा दुल्हन को गोद में उठाया जाता है और उसे गाड़ी या डोली में बिठाया जाता है, दारुल उलूम ने इसी पर कहा है की निकाह के समय दुल्हनो को मामा से दुरी बनाकर रखनी चाहिए, वरना मामा को अपनी ही भांजी से सेक्स करने का मन कर सकता है

loading...

दारुल उलूम ने अब इस परंपरा को गैर इस्लामिक भी घोषित कर दिया है, फतवे में कहा गया है की अक्सर मामाओं को अपनी भांजी से सेक्स करने का मन करने लगता है, ऐसे में ये परंपरा अब ख़त्म होनी चाहिए, और ख़त्म नहीं भी होती तो दुल्हनो को मामा से दुरी बनाकर रखनी चाहिए

फतवे की दलील है कि इस रस्म से दोनों में से किसी के भी मन में काम-वासना आ जाती है. बेंच ने लोगों को सलाह दी है कि बेहतर होगा कि दुल्हन डोली की तरफ चलकर जाए या उसकी मां उसे ले जाये, मामा को दुल्हन से दूर रखा जाये। दारुल उलूम ने ऐसे जेवरों को भी पहनने के लिए मना किया है जिस पर कोई तस्वीर बनी हो

loading...

वैसे आये दिन दारुल उलूम इसी तरह के फतवे देता रहता है, सारे फतवे जैसे सिर्फ औरतों पर ही देने की परंपरा सी बनी हुई है, ऐसा प्रतीत होता है की मुल्ला मौलवी दिन रात बैठकर येही बातें आपस में करते रहते है की मामा की नियत भांजी पर ख़राब हो सकती है, इसकी नियत उसपर ख़राब हो सकती है, मुल्ला मौलवियों के पास चर्चा के लिए और कोई टोपिक जैसे बचा ही नहीं है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!