Press "Enter" to skip to content

बाबरी परिसर की खुदाई के वक्त मैं वहीँ था, खुदाई में मंदिर निकला, मैं गवाह हूँ : के के मोहम्मद, पूर्व रीजिनल डायरेक्टर ASI

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
kk mohammed on ram mandir
kk mohammed on ram mandir

kk mohammed on ram mandir : अगर किसी के घर पर कोई बाहरी आकर हमला कर दे, उसका घर तोडकर उसके ऊपर अपना घर बना ले, तो क्या वो जमीन हमलावर की हो जाती है ? 

अयोध्या के मसले पर सुप्रीम कोर्ट का कहना है की ये मंदिर-मस्जिद का मामला नहीं है, ये जमीन का मामला है, ये सिर्फ टाइटल सूट है – यानि सिर्फ ये मामला है की जमीन किसका है ?


हिन्दुओ को कोर्ट, कम्युनिस्ट और सेक्युलर मिलकर कितना अपमानित कर रहे है इसका अंदाजा भी ज्यादा हिन्दुओ को नहीं है, बाबर क्या अपने गाँव से अयोध्या की जमीन लेकर आया था, किस हिसाब से जमीन मुसलमानों की हो जाती है

वहां मंदिर था मंदिर को तोड़कर मस्जिद बना दी, और इसका गवाह भी एक ऐसा मुस्लमान है जो सरकारी मुलाजिम था, बाबरी मस्जिद परिसर की खुदाई की गयी थी, इस देश में ऐसा काम ASI से करवाया जाता है जो की एक सरकारी संसथान है

loading...

उस ASI के रीजिनल डायरेक्टर थे केरल के के के मोहम्मद जो की खुद एक सुन्नी मुसलमान है, वो क्या कहते है वो आपको सुनना चाहिए

खुदाई का जिम्मा जिस ASI टीम को दिया गया था, उसमे अधिकतर हिन्दू कर्मचारी थे, पर इस टीम के सबसे बड़े अधिकारी एक मुस्लिम थे, के के मोहम्मद, इनकी ही निगरानी में खुदाई शुरू हुई ये पता लगाने को की हिन्दू सच बोल रहे है या झूठ, क्या वाकई बाबरी मस्जिद और उसके परिसर में जमीन के नीचे मंदिर है

के के मोहम्मद बताते है की – खुदाई हुई तो मैंने देखा उसके नीचे मंदिर था, मैंने अपनी रिपोर्ट में कहा की इस स्थान पर मंदिर ही था और जमीन हिन्दुओ को सौंपी जानी चाहिए, उनकी जमीन पर कब्ज़ा किया गया था

पर सच बोलने पर के के मोहम्मद को ससपेंड कर दिया गया

loading...

बाद में हाई कोर्ट ने भी इसी सबूत के आधार पर हिन्दुओ के पक्ष में 2010 में फैसला दिया, कोई हमलावर किसी जमीन का मलिक नहीं हो सकता, ये सिंपल सा लॉजिक है, पर इस मामले को कोर्ट, कम्युनिस्ट और सेकुलरों ने लटकाए रखा है, जबकि सबूतों और के के मोहम्मद जैसे गवाहों की कोई कमी नहीं है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!