Press "Enter" to skip to content

भारत से पंजाब को तोड़कर, खालिस्तान बनाकर, खालिस्तान का PM बनना चाहते है सिद्धू ?

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Navjot singh sidhu want to become Prime minister of Khalistan
Navjot singh sidhu want to become Prime minister of Khalistan

Navjot singh sidhu want to become Prime minister of Khalistan : अपनी राजनीतिक महत्वाकांक्षा और बीजेपी से दुश्मनी की वजह से नवजोत सिंह सिद्धू ठीक वही गलती कर रहे हैं जो आजादी के बाद दलित नेता जतिंद्र नाथ मंडल ने किया था

नवजोत सिंह सिद्धू आप कॉरिडोर बनने पर खुश मत होइए क्योंकि यह आपकी जीत नहीं है बल्कि पाकिस्तान में बैठा सबसे बड़ा खालिस्तानी आतंकवादी गोपाल चावला की जीत है


वही गोपाल चावला जो पाकिस्तान में रहकर खालिस्तान मुद्दे को फिर से जिंदा करना चाहता है जिसमें हाफिज सईद पाकिस्तान की सेना और आईएसआई उसकी पूरी मदद कर रही है दुख यह हुआ कि नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान जाकर गोपाल चोरा से भी मिले और उसके साथ फोटो खिंचवाई

loading...

जब दलितों को पता है यह मुस्लिम किसी के सगे नहीं हुए उनके सगे कैसे होंगे, आखिर ज्योतिंद्रनाथ मंडल के साथ पाकिस्तान में जो कुछ हुआ उससे भी भारत के दलित नेता सबक क्यों नहीं लेते ?? और ज्योतिंद्रनाथ मंडल के बारे में भारत के दलित नेता दलितों को क्यों नहीं बताते ??

मित्रों भारत के बंटवारे के पहले मुस्लिम नेताओं ने चालबाजी करके दलितों को यह समझाने में कामयाबी हासिल कर लिया कि मुस्लिम और दलित एक हैं और दलितों का भला मुसलमानों के साथ रहने में ज्यादा है …

मुस्लिमों के इस बहकावे में उस समय के कुछ बड़े दलित नेताओं के झांसे में आ गए उनमें से प्रमुख थे ज्योतिंद्रनाथ मंडल वह के बाद पाकिस्तान चले गए जतिन नाथ मंडल ने पाकिस्तान का पुरजोर समर्थन किया था और दलितों को हिंदुओं से दूर रहने की सलाह दी थी बंटवारे के समय पश्चिमी पाकिस्तान में करीब 30% दलित थे और पूर्वी पाकिस्तान जो अब बांग्लादेश है वहां करीब 40% दलित थे

जिन्ना ने ज्योतिन्द्र नाथ मंडल को पाकिस्तान का पाकिस्तान के पहले मंत्रिमंडल में कानून निर्माण मंत्री बनाया उस वक्त पाकिस्तान एक धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र था फिर अचानक लियाकत अली खान ने प्रस्ताव पास करके पाकिस्तान को इस्लामिक राष्ट्र बनाने की घोषणा कर दिया और जोगिंदर नाथ मंडल से कह दिया गया पाकिस्तान में यदि दलित लोगो को रहना है तो उन्हें इस्लाम कुबूल करना पड़ेगा

loading...

तब बेचारे जतिन नाथ मंडल को लगा कि उनके साथ धोखा हुआ है और 8 फरवरी 1955 को ज्योति मंडल वापस कोलकाता आकर रहने लगे और पूरे भारत और हिंदुओं से माफी मांगी थी

उसके बाद पश्चिमी पाकिस्तान जो पाकिस्तान है और पूर्वी पाकिस्तान जो अब बांग्लादेश है वहां से दलितों का सफाया शुरू हो गया और अब पाकिस्तान में मात्र प्वाइंट 5% दलित बचे हैं और बांग्लादेश में मात्र 1% दलित बचे हैं

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!