Press "Enter" to skip to content

हिन्दू मंदिर को मस्जिद बना दिया, ये है आतंकी अहमद शाह का काम, जिसके नाम पर है अहमदाबाद

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
rudra mahal temple now a mosque
rudra mahal temple now a mosque

rudra mahal temple now a mosque : हमने ऐसे बहुत से मूढ़ हिन्दुओ को देखा है जो खुद को गर्व से “अहमदाबादी” कहते है, एक आतंकवादी का जिंदाबाद करने वाले ऐसे मूढ़ हिन्दुओ को क्या कहा जाये हम ये नहीं जानते 

कर्णावती आज गुजरात का सबसे बड़ा शहर है जिसे अहमदाबाद के नाम से आज जाना जाता है, एक इस्लामिक आतंकवादी जिसका नाम अहमद शाह था, उसके नाम से गुजरात के सबसे बड़े शहर का नाम है


अहमदाबाद का मतलब होता है – अहमद रहे आबाद, या अहमद जिंदाबाद, जितनी बार आप अहमदाबाद बोल रहे होते है उतनी बार आप आतंकवादी का जिंदाबाद कर रहे होते है

ऊपर जो तस्वीर आप देख रहे है, प्रथम दृष्टि में आपको ये कोई मंदिर लग रहा होगा, पर आप नहीं जानते तो बता दें की ये एक मस्जिद है जो की गुजरात के सिद्धपुर में है

loading...

अहमद शाह जिसे आज इतना सम्मान मिला हुआ है की गुजरात का सबसे बड़ा शहर उसके नाम पर है, उसने सिद्ध पुर पर हमला किया था, और वहां रूद्र महल मंदिर को तोड़कर उसे मस्जिद बना दिया था, पर ये दरिंदा पुरे मंदिर को नहीं तोड़ सका

इसने क्या किया की मंदिर के मुख्य गर्भ गृह को तोड़ दिया, सभी मूर्तियों को तोड़ दिया, और मंदिर के मुख्य बिल्डिंग पर गुम्बद बनवा दी, पर बाकी मंदिर के हिस्से पर आज भी मंदिर जैसे ही छत है, बस बीच में आपको गोल गोल गुम्बद दिखाई दे रहा है

rudra mahal temple now a mosque
rudra mahal temple now a mosque

अब रूद्र महल मंदिर एक मस्जिद है, देखिये ये हमारा मंदिर अब मस्जिद है, इसने अन्दर कोई मूर्तियाँ नहीं है, यहाँ नमाज़ होती है, ये है आतंकवादी अहमद शाह का काम

loading...

अब आप जितनी बार भी जोर जोर से अहमदाबाद बोलिए, असल में आप एक आतंकवादी का जिंदाबाद कर रहे है, और खुद पर जरा शर्म कर लीजिये, इस आतंकवादी के नाम को जल्द मिटाने की मांग शुरू कीजिये, नेताओं की बकवास चलती रहेगी, आतंकी का जिंदाबाद करना आपको छोड़ना ही है, नेता बस टाइम बर्बाद कर रहे है, यूपी में योगी नाम बदल सकते अहि तो गुजरात के नेता क्यों टाइम पास कर रहे है, या करना ही नहीं चाहते, अहमद शाह को अपना अब्बा माना हुआ है ?

कलंको को मिटाया जाना बहुत जरुरी है, आखिर आतंकवादी का सम्मान कबतक किया जाता रहेगा

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!