Press "Enter" to skip to content

सोनिया का PA मिलवाने ले गया, पहली लाइन बोला – मैडम, ये अजित जोगी है, ये भी हमारी तरह इसाई है

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
vincent george sonia gandhi christian
vincent george sonia gandhi christian

vincent george sonia gandhi christian : सोनिया गांधी के निजी सचिव विसेंट जॉर्ज केरल के मूल निवासी एक कट्टर ईसाई थे…. दिल्ली में एक चर्च में प्रार्थना के दौरान विसेंट जॉर्ज की मुलाकात एक व्यक्ति से हुई….

बातचीत में पता चला कि वह व्यक्ति तत्कालीन अविभाजित राज्य मध्य प्रदेश कैडर का आईएएस अधिकारी है और आदिवासी से ईसाई बना है और कलेक्टर है …फिर विसेंट जॉर्ज और अजीत जोगी में गहरी दोस्ती हो गई .. फिर भी सेंट जॉर्ज ने 1 दिन अजीत जोगी को मैडम सोनिया से मिलवाया और खुद अजीत जोगी ने बताया है कि विसेंट जॉर्ज की पहली लाइन यह थी कि मैडम यह भी हमारी तरह ईसाई है


उसके बाद विसेंट जॉर्ज और सोनिया के इशारे पर अजीत जोगी ने मध्यप्रदेश के आदिवासी इलाके में जमकर धर्मांतरण किया फिर कुछ लोगों ने इस मसले को जबलपुर हाईकोर्ट में चैलेंज किया …हाई कोर्ट ने अजीत जोगी के खिलाफ जांच के आदेश दे दिए तो सोनिया और विसेंट जार्ज के कहने पर अजीत जोगी ने कलेक्टर पद से इस्तीफा देकर कांग्रेस ज्वाइन कर ली ….

vincent george sonia gandhi christian : उसके बाद अजीत जोगी जब भी दिल्ली जाते तो उसी चर्च में प्रार्थना करने जाते जिस चर्च में सोनिया गांधी और विसेंट जॉर्ज प्रार्थना करने आते थे

loading...

फिर सोनिया गांधी भी बहुत खुश हुई कि यह बंदा ईसाई है और लाखो आदिवासियों को ईसाई बना चुका है उनके इसी योग्यता से खुश होकर श्यामाचरण शुक्ल और विद्या चरण शुक्ला जैसे वरिष्ठ नेताओं को किनारे कर के सोनिया गांधी ने अजीत जोगी को नए बने राज्य छत्तीसगढ़ का पहला मुख्यमंत्री बना दिया

सच कहूं तो सोनिया गांधी का यह कदम बीजेपी के लिए बेहतरीन कदम साबित हुआ क्योंकि जिस ईसाई धर्म के प्रचार और प्रसार के लिए सोनिया गांधी ने अजीत जोगी को छत्तीसगढ़ का मुख्यमंत्री बनाया था उसी के मुख्यमंत्री बनने से छत्तीसगढ़ के सभी वरिष्ठ कांग्रेसी नेता इस कदर कांग्रेस से नाराज हुए कांग्रेस में 15 सालों से छत्तीसगढ़ की सत्ता हासिल नहीं की

और एक बात जो मीडिया छुपाता है अजीत जोगी की सगी इकलौती लड़की एमबीबीएस की पढ़ाई करती थी वहां उसका ब्राह्मण लड़के से प्रेम हो गया ..अजीत जोगी ने उस ब्राह्मण लड़के को बुलाया और उसे ईसाई धर्म स्वीकार करने को कहा उस लड़के ने मना कर दिया अजीत जोगी ने अपनी लड़की से साफ मना कर दिया कि जब तक वह लड़का ईसाई धर्म स्वीकार नहीं करेगा तब तक तुम्हारी शादी हम उससे नहीं करेंगे ….

loading...

बाद में अजीत जोगी की लड़की ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली ..अजीत जोगी ने अपनी बेटी को इंदौर में दफन कर दिया फिर जब छत्तीसगढ़ राज्य बना तब अजीत जोगी ने पहला काम यह किया कि अपनी बेटी के कब्र को खुद वाकर उसे फिर से रायपुर में दफन किया ताकि छत्तीसगढ़ के आदिवासी लोगों को संदेश दे सकें कि उनका मुख्यमंत्री एक ईसाई है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!