Press "Enter" to skip to content

क्या कोई मस्जिद कभी पूजा-अर्चना के लिए खोली गयी है ? : चित्रा त्रिपाठी, पत्रकार

Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Share on Google+
Google+
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
Chitra Tripathi
Chitra Tripathi

Chitra Tripathi : क्या ताली एक हाथ से बजती है, पर सेकुलरिज्म सिर्फ 1 तरफ से ही भारत में चल रहा है, भारत के कई राज्य ऐसे है जहाँ से हिन्दू गायब कर दिए गए है, पर सेकुलरिज्म का नशा ऐसा है की इसका असर बहुत अन्दर तक हो चूका है 

आये दिन तस्वीर सोशल मीडिया पर डाली जाती है की यहाँ मंदिर में नमाज़ करवाई गयी, मुसलमान भाई ट्रैफिक में फंस गए तो मंदिर ने नमाज़ के लिए दरवाजे खोल दिए, इत्यादि इत्यादि


फिर बताया जाता है की मानवता, भाईचारे की मिसाइल पेश कर दी गयी – अभी हाल ही में बुलंदशहर में मंदिर में नमाज़ करवाई गयी और सोशल मीडिया पर इसका खूब प्रचार किया गया

वैसे ये कोई पहली घटना नहीं थी, आये दिन इस तरह की गतिविधियाँ और उनका सोशल मीडिया पर प्रचार होता है, और इसे भाईचारे के मिसाइल के रूप में बताया जाता है

loading...

पर क्या कभी आपने इसके उलट सुना है, की किसी जगह मस्जिद खोल दी गयी पूजा अर्चना, भजन के लिए ? सेकुलरिज्म केवल ONE WAY TRAFFIC है क्या ?

कम ही पत्रकार कडवी बातों को उठाते है और ऐसे ही पत्रकारों में चित्रा त्रिपाठी भी शामिल है

loading...

भारत में सेकुलरिज्म सिर्फ ONE WAY TRAFFIC की तरह ही चल रहा है और इसी कारण भारत के कई राज्यों से हिन्दू गायब हो गए है, उदाहरण के तौर पर कश्मीर से हिन्दू गायब है, उत्तर पूर्व के कई राज्यों से हिन्दू गायब हो चुके है

सेकुलरिज्म कभी एक तरफ से कायम नहीं हो सकता, जबतक मस्जिदों में पूजा अर्चना नहीं होगी, तब तक सेकुलरिज्म की बात बेमानी है, और ये समाज तथा देश के लिए बेहद खतरनाक भी है

Comments are closed.

Mission News Theme by Compete Themes.
error: Content is protected !!